Home / / व्यापार सूचकांक में भारत की प्रगति

व्यापार सूचकांक में भारत की प्रगति

July 4, 2017


Please login to rate

India-set-to-climb-up-in-ease-of-doing-business-ranking-hindiनवीनतम विश्व बैंक की रिपोर्ट के मुताबिक भारत का “आसान व्यापार सूचकांक” में 130 वाँ स्थान है और पिछले साल की तुलना में इसकी स्थिति में सिर्फ 1 स्थान की बढ़ोत्तरी हुई है। यह रिपोर्ट संशोधित कार्य प्रणाली के आधार पर बैंक द्वारा 10 मूलभूत पैरामीटरों को ध्यान में रखकर बनाई गई थी, ताकि पता लगाया जा सके कि किसी भी देश में व्यवसाय कितनी आसानी से शुरू किया जा सकता है। इस सर्वेक्षण में 190 देशों को शामिल किया गया। रिपोर्ट के मुताबिक, आसान व्यापार के मामले में सभी 10 मापदंडों को ध्यान में रखते हुए, अन्य सभी देशों की तुलना में न्यूजीलैंड का पहला स्थान है। 10 मापदंडों में से, भारत की स्थिति में चार या पाँच मानकों में सुधार हुआ है, जो सही नहीं है। लेकिन फिर भी, देश ने अगले साल 80 स्थानों की बढ़ोत्तरी करने का लक्ष्य रख रहा है, ताकि भारत आसान व्यापार करने में दुनिया के शीर्ष 50 देशों में से एक हो सके। हाल ही में विश्व बैंक के अधिकारियों ने उद्योगों और सरकारों से अधिक जानकारी और प्रतिक्रिया पाने के लिए दिल्ली और मुंबई का दौरा किया था। विश्व बैंक की रैंकिंग दिल्ली और मुंबई के स्कोर के औसत पर आधारित है।

केंद्र ने विश्व बैंक के अधिकारियों के समक्ष अपनी पहली प्रस्तुति दी है और यह प्रदर्शित किया कि पिछले कुछ सालों में इसकी प्रक्रिया, निर्माण की लागत और स्वीकृति में लिए जाने वाले समय में काफी सुधार हुआ है।

रिपोर्ट का विवरण

  • भारत का स्थान: 130 वाँ
  • भारत का स्कोर: 100 के पैमाने पर 88 अंक
  • शीर्ष स्थान: न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया और ताइवान

सुधार वाले तीन क्षेत्र

व्यापार सूचकांक की रिपोर्ट के आसान नवीनतम संस्करण के अनुसार, भारतीय व्यापार में सुधार निम्नलिखित तीन क्षेत्रों में देखा जा सकता है:

  • व्यवसाय शुरू करना: भारत ने इस साल कारोबार शुरू करने में 164 में से 155 मानदंड प्राप्त करके 9 स्थानों की प्रगति की।
  • निर्माण अनुमति प्राप्त होना: यह पिछले साल की सबसे बड़ी समस्या थी, जिसके कारण सरकार ने इस साल उचित कार्यों और बेहतर प्रक्रियाओं के लिए पर्याप्त निर्माण अनुमति प्रदान की। व्यवसाय रिपोर्ट के अगले संस्करण में भारत को वर्तमान के शीर्ष न्यूजीलैंड के समरूप होना चाहिए। शुरुआत में निर्माण हेतु अनुमति लेने के लिए, मुंबई को 164 दिन का समय और दिल्ली को 213 दिन का समय लगा। पिछले साल दो शहरों में आवश्यक प्रक्रियाओं की संख्या 42 और 29 थी। लेकिन पिछले साल विश्व बैंक ने निर्माण अनुमति के लिए कुछ ऑनलाइन बदलाव करने का सुझाव दिया था। जिससे अब निर्माण अनुमति पाने में केवल 60 दिन लगते हैं और अब निर्माण के लिए अनुमति लेने के लिए 8 प्रक्रियाएं कम हो गईं हैं।
  • बिजली की पहुँच: इसकी स्थिति में 70 से 29 स्थानों की बढ़ोतरी हुई है। देश में संचालित होने वाली अन्य स्थानों की तुलना में मुंबई में सबसे अच्छी बिजली वितरण की सुविधा है। एक नव-निर्मित गोदाम के लिए या किसी व्यवसाय को शुरू करने के लिए एक स्थायी बिजली कनेक्शन लेना बहुत जरूरी है और रिपोर्ट के अनुसार देश के दो शहर दिल्ली और मुंबई में इसमें काफी सुधार हुआ है।

समस्याएँ

रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय व्यवसायों के सामने आने वाली दो सबसे गंभीर समस्याएं हैं:

क्रेडिट तक पहुँच: इस मामले में रैकिंग 42 से फिसलकर 36 वें स्थान पर आ गई। भारत में क्रेडिट प्राप्त करना बहुत मुश्किल हो गया है, हालांकि सरकार ने वित्तीय समावेशन के लिए कई प्रयास किए हैं और आसान क्रेडिट वितरण के लिए जोर दिया है।

कर भुगतान में आसानी: भारत में करों का भुगतान करने में आसान मानदंड की स्थिति में एक स्थान की गिरावट आई है।

अन्य मानदंड

अन्य मानदंड जैसे संपत्ति दर्ज करने, सीमाओं के पार व्यापार करने, अल्पसंख्यक निवेशकों की रक्षा करने, प्रवर्तनीय ठेके और शोधक्षमताओं का समाधान करने में भारत का स्थान पिछले साल की तरह ही रहा है। शेयरधारकों के अल्पसंख्यक हितों की सुरक्षा के मानदंड में भारत का 8 वाँ स्थान है और यह सभी मापदंडों में सर्वश्रेष्ठ स्थान है।

संक्षेप: हमने रिपोर्ट में नुकसान और फायदे दोनों देखें हैं। हालांकि, सरकार ने कहा है कि पिछले साल किए गए कई सुधारों को अध्ययन में शामिल नहीं किया गया था। लेकिन सरकार को विश्वास है कि यदि अगले साल मौजूदा प्रावधान और उपाय इसमें शामिल हो जाएं, तो भारत के प्रगति स्थान में काफी सुधार होगा। विश्व बैंक की बैठक में, भारत आसान व्यापार में 50 शीर्ष स्थानों में शामिल होना चाहता है और निर्माण अनुमति में आने वाली कठिनाइयों को कम करने और समयबद्ध स्वीकृति सक्रिय करना चाहता है।