Home / India / भारतीय सेना के कमान और उनके मुख्यालय

भारतीय सेना के कमान और उनके मुख्यालय

January 3, 2019


Please login to rate

भारतीय सेना के कमान और उनके मुख्यालय

भारतीय सेना, जो भारतीय रक्षा सेवाओं का सबसे बड़ा घटक है, सशस्त्र बलों के भागों पर आधारित शाखा है। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है और यह सेनाध्यक्ष द्वारा संचालित है। देश का राष्ट्रपति भारतीय सशस्त्र बलों का सर्वोच्च कमांडर होता है। सेना के पास एक रेजिमेंटल प्रणाली है जो विशिष्ट भौगोलिक स्थिति और संचालन के आधार पर सात कमानों में विभाजित है। प्रत्येक कमान (कमांड) लेफ्टिनेंट जनरल के पद के साथ जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ के नियंत्रण में होती है। छह संचालन और एक प्रशिक्षण कमांड हैं। प्रत्येक सेना कमान सीधे नई दिल्ली में स्थित सेना मुख्यालय से संबद्ध है।

सात कमान और उनके मुख्यालय के बारे में जानने के लिए नीचे पढ़ें –

सात कमान और उनके मुख्यालय के बारे में जाने

आर्मी ट्रेनिंग कमान

मुख्यालयः शिमला हिमाचल प्रदेश

इसे एआरटीआरएसी के रूप में भी जाना जाता है। आर्मी ट्रेनिंग कमांड 1 अक्टूबर 1991 को स्थापित की गई थी। यह पहले मध्य प्रदेश के महू क्षेत्र में स्थित था लेकिन सन् 1993 में हिमाचल प्रदेश के शिमला में स्थानांतरित कर दिया गया। कमांड का मुख्य उद्देश्य अधिकारियों को प्रशिक्षण प्रदान करना है और यह प्रशिक्षण की कार्यसाधकता को भी बढ़ाएगा। लेफ्टिनेंट जनरल पट्टाचेरुवा सी थिमाय्या एआरटीआरएसी के वर्तमान कमांडर हैं।

सेंट्रल कमांड

मुख्यालयः लखनऊ, उत्तर प्रदेश

लखनऊ, उत्तर प्रदेश में स्थित, सेंट्रल कमांड की स्थापना द्वितीय विश्व युद्ध के समय 1942 में हुई थी लेकिन 1946 में इसे बरख़ास्त कर दिया गया। चीन-भारतीय युद्ध के कारण 1 मई 1963 को फिर से इसे स्थापित किया गया जो युद्ध 1962 में हुआ था। लेफ्टिनेंट जनरल के बहादुर सिंह ने सेंट्रल कमांड के पहले सेना कमांडर के रूप में कार्य किया था। वर्तमान में, लेफ्टिनेंट जनरल अभय कृष्ण इस कमांड के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ हैं।

पूर्वी कमान

मुख्यालयः कोलकाता, पश्चिम बंगाल

भारतीय सेना के पूर्वी कमान का गठन 1920 में हुआ था जब सेना के चार कमान थे – दक्षिणी कमान, पूर्वी कमान, उत्तरी कमान और पश्चिमी कमान। 1 मई 1963 तक, लखनऊ को पूर्वी कमान के मुख्यालय के रूप में चुना गया था। हालाँकि, जब सेंट्रल कमांड को फिर से स्थापित किया गया था, तब लखनऊ को पूर्वी कमान के बजाय सेंट्रल कमांड का मुख्यालय बनाया गया था। अब, वर्तमान में, पूर्वी कमान का मुख्यालय कोलकाता, पश्चिम बंगाल में है और पूर्वी कमान के वर्तमान कमांडर के रूप में लेफ्टिनेंट जनरल मनोज मुकुंद नरवाने कार्यरत हैं।

पूर्वी कमान के अधीनस्थ इकाइयाँ हैं –

  • 23 वीं इन्फैंट्री डिवीजन – रांची
  • III वाहिनी – दीमापुर
  • IV वाहिनी – तेजपुर
  • XXXIII वाहिनी – सिलीगुड़ी
  • XVII वाहिनी – पानागढ़

उत्तरी कमान

मुख्यालयः उधमपुर, जम्मू और कश्मीर

भारतीय सेना में उत्तरी कमान सबसे पुरानी कमांडों में से एक है क्योंकि यह मूल रूप से ब्रिटिश शासन के समय 1895 में स्थापित की गई थी। 1942 में उत्तर पश्चिमी सीमा की रक्षा के लिए इसे उत्तर पश्चिमी सेना के रूप में सुधार गया था। उस समय कोहट, बलूचिस्तान, पेशावर, वज़ीरिस्तान और रावलपिंडी जिले सहित क्षेत्र उत्तरी कमान (जिसे उत्तरी पश्चिमी सेना के रूप में जाना जाता था) के नियंत्रण में थे। 1947 में उत्तरी कमान का मुख्यालय पाकिस्तानी सेना का मुख्यालय बन गया। उत्तरी कमान को भारत की स्वतंत्रता के बाद 1947 में हटा दिया गया था। जब भारत सरकार ने उत्तरी सीमाओं में संचालन की देखरेख के लिए एक अलग कमान बनाने का फैसला किया, तो 1972 में कमान में सुधार किया गया। उस समय, जम्मू और कश्मीर के उधमपुर में कमान के लिए मुख्यालय स्थापित किया गया था। वर्तमान में, लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह उत्तरी कमान के कमांडिंग-इन-चीफ हैं।

उत्तरी कमान की अधीनस्थ इकाइयाँ हैं –

  • XIV वाहिनी – लेह
  • XV वाहिनी – श्रीनगर
  • XVI वाहिनी – नगरोटा

दक्षिणी कमान

मुख्यालयः पुणे, महाराष्ट्र

दक्षिणी कमान की स्थापना 1895 में की गई थी और तब से कार्यरत है। यह 1942 में ब्रिटिश द्वारा द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान दक्षिणी सेना के रूप में फिर से बनाया गया था। हालाँकि, कमांड का गठन नवंबर 1945 में मूल नाम “दक्षिणी कमान” के साथ फिर से वापस कर दिया गया। दक्षिणी कमान ने आधुनिक भारत में विभिन्न रियासतों के एकीकरण, 1961 में गोवा के भारतीय उद्घोषण और 1965 और 1971 में भारत-पाकिस्तान युद्धों के दौरान भारत में होने वाली विभिन्न महत्वपूर्ण घटनाओं के दौरान अनुयोजन देखा गया। वर्तमान में, इस कमांड के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल एसके माली है।

दक्षिणी कमान की अधीनस्थ इकाइयाँ हैं –

  • 41 वां आर्टिलरी डिवीजन – पुणे
  • XII वाहिनी – जोधपुर
  • XXI वाहिनी – भोपाल

दक्षिण पश्चिमी कमान

मुख्यालयः जयपुर, राजस्थान

15 अप्रैल 2005 को गठित, भारतीय सेना की दक्षिण पश्चिमी कमान 15 अगस्त 2005 को पूरी तरह से चालू हो गई। यह भारतीय सेना में सबसे नई गठित कमांड है। राजस्थान की राजधानी जयपुर में स्थित, इस कमान में कुछ परिचालन इकाइयाँ हैं जिन्हें पश्चिमी कमान से स्थानांतरित किया गया था। दक्षिण पश्चिमी कमान के वर्तमान कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल चेरिश मैथसन हैं।

दक्षिण पश्चिमी कमान की अधीनस्थ इकाइयाँ हैं –

  • 42 वीं आर्टिलरी डिवीजन- जयपुर
  • I वाहिनी वाहिनी – मथुरा
  • X वाहिनी – भटिंडा

पश्चिमी कमान

मुख्यालयः चंडीमंदिर, चंडीगढ़

भारतीय सेना के पश्चिमी कमान को 26 अक्टूबर 1947 को प्रभारी बनाया गया था और तब से कार्यरत है। जम्मू और कश्मीर के विलय के बाद, पश्चिमी कमान के क्षेत्र को जब्त करने के लिए भारतीय सेना को संचालन की जिम्मेदारी लेने का कार्य सौंपा गया था। पश्चिमी कमान के वर्तमान कमांडिंग-इन-चीफ लेफ्टिनेंट जनरल सुरिंदर सिंह हैं।

पश्चिमी कमान की अधीनस्थ इकाइयाँ हैं –

  • 40 वीं आर्टिलरी डिवीजन – अंबाला
  • II वाहिनी, – अंबाला
  • IX वाहिनी, – योल
  • XI वाहिनी, जालंधर में मुख्यालय

भारतीय सेना से संबंधित अन्य लेख;

  • भारतीय सेना के बारे में रोचक तथ्य जो आप नहीं जानते होंगे
  • भारतीय सेना – रैंक और भर्ती प्रक्रिया
  • सेना दिवस विशेष: वीरता पुरस्कारों का परिचय
  • क्या नागरिक देश की रक्षा में सेना की मदद कर सकते हैं?
  • भारतीय सशस्त्र बलों द्वारा बचाव मिशन
Summary
Article Name
भारतीय सेना के कमान और उनके मुख्यालय
Author
Description
सेना के पास एक रेजिमेंटल प्रणाली है जो विशिष्ट भौगोलिक स्थिति और संचालन के आधार पर सात कमांडों में विभाजित है। प्रत्येक कमान (कमांड) लेफ्टिनेंट जनरल के पद के साथ जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ के नियंत्रण में होती है। छह संचालन और एक प्रशिक्षण कमांड हैं। प्रत्येक सेना कमान सीधे नई दिल्ली में स्थित सेना मुख्यालय से संबद्ध है।