Home / India / लोहड़ी – अलाव का त्यौहार

लोहड़ी – अलाव का त्यौहार

January 12, 2019


Please login to rate

लोहड़ी का उत्सव

भारत, त्यौहारों की भूमि कहा जाता है, यहां हर मौसम के हिसाब से कुछ त्यौहार होते हैं और भारत, पंजाब में पारंपरिक तौर पर लोहड़ी जो फसलों की बुआई और कटाई से जुड़ा एक विशेष त्यौहार है। लोहड़ी का त्यौहार माघ के महीने में मनाया जाता है और उत्तरायण की शुभ अवधि के दौरान जब सूर्य मकर रेखा से उत्तर की ओर कर्क रेखा की ओर बढ़ता है। लोहड़ी का यह त्यौहार आमतौर पर ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार 12 या 13 जनवरी को मनाया जाता है।

लोहड़ी सर्दियों के मौसम की परिणति का प्रतीक है और अग्नि की पूजा करके मनाया जाता है जो सूर्य देवता का प्रतीक है। यह त्यौहार दिल्ली, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों में भी मनाया जाता है। इन राज्यों के मूल निवासी इस त्यौहार को बड़े उत्साह, उल्लास और भव्यता के साथ मनाते हैं। इस समय के दौरान, इन उत्तरी राज्यों के खेत इस क्षेत्र की मुख्य फसल, गेहूं की फसल, के साथ लहलहा उठते हैं, और इस त्यौहार को मनाने के पीछे का उद्देश्य अग्नि और सूर्य देवता का आभार व्यक्त करना है।

लोहड़ी

इस त्यौहार का नाम लोहड़ी निम्न कारणों से पड़ा :

  • कुछ का मानना है कि यह नाम सूफी संत कबीर की पत्नी लोई से लिया गया है।
  • पंजाब में लोह का अर्थ है सामुदायिक दावतों के दौरान रोटियां बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला पैन। चूंकि लोहड़ी एक सामुदायिक त्यौहार है, इसलिए नाम लोह शब्द से लिया गया है।
  • लोहड़ी होलिका की बहन भी थी।
  • इस त्यौहार में मिठाइयाँ बनाने के लिए जिन मुख्य सामग्रियों का उपयोग किया जाता है वे हैं गजक और रेवड़ी, या तिल और रोहरी। इस प्रकार लोहड़ी नाम इन दो शब्दों का मेल है।

लोहड़ी की उत्पत्ति

लोहड़ी के उत्सव का इतिहास अकबर के युग से जुड़ा हुआ देखा जा सकता है। किंवदंतियों के अनुसार, दूल्हा बट्टी एक मुस्लिम डाकू था, जो अकबर के शासनकाल के दौरान अमीरों के यहां चोरी करता था और समाज के वंचितों के बीच उस लूट का बंटवारा करता था। वह वास्तव में उस युग का रॉबिन हुड था, क्योंकि उसने उन लड़कियों की भी मदद की थी जिन्हें उनकी इच्छा के विरुद्ध ले जाया जा रहा था। दूल्हा बट्टी की सोंच समकालीन थी और मुस्लिम लड़कियों और हिंदू लड़कों के बीच अंतर-जातीय विवाह का प्रबंध करता था। इस प्रकार पंजाब के लोग उसे पसंद करते थे और उनका सम्मान करते थे और उनकी प्रशंसा में गीत गाते थे। ये गीत आज भी लोहड़ी के जश्न के दौरान गाए जाते हैं।

रीति-रिवाज

खुशियों के त्यौहार लोहड़ी को कई सदियों पुराने रीति-रिवाजों और परंपराओं द्वारा चिह्नित किया जाता है। उनमें से कुछ शामिल हैं :

  • लोहड़ी से कुछ दिन पहले यह त्यौहार शुरू होता है, जिसमें गाँव की युवा लड़कियाँ घर-घर जाकर गाय के गोबर से बने उपले जो त्यौहार के दिन जलाए जाने वाले अलाव के लिए ईंधन का काम करते हैं। युवा लड़कियां गाय के गोबर से बने उपले घर-घर मांगते हुए गाना गाती हैं।
  • त्यौहार के दिन देवी लोहड़ी की एक मूर्ति को सजाया जाता है और इस मूर्ति के सामने अलाव जलाया जाता है। देवी लोहड़ी की स्तुति में गीत गाए जाते हैं।
  • जनवरी माह वह समय है जब गन्ने की कटाई का समय होता है और इस तरह गन्ने से बने उत्पाद जैसे गुड़ का इस त्यौहार में अपना एक महत्व है।
  • अलाव प्रकृति के सबसे महत्वपूर्ण तत्व का प्रतीक है – सूर्य देवता – और यह अलाव सूर्यास्त के बाद जलाया जाता है। यह माना जाता है कि सूर्य पृथ्वी पर सभी के जीवन का स्रोत है और मनुष्य में भौतिक और साथ ही आध्यात्मिक ऊर्जा इन दोनों का प्रतिनिधित्व करता है। अलाव को गेहूं के खेतों के साथ-साथ घरों में भी देखा जा सकता है जहां लोग लोहड़ी मनाने के लिए समूह के रूप में एकत्र होते हैं।
  • लोग सूर्य और अग्नि देवता का आभार व्यक्त करने के लिए अलाव जलाते हैं और उस अग्नि में तिल, रेवड़ियाँ, मूंगफली, गुड़ और गजक आदि भी समर्पित करते हैं।
  • तिल, रेवड़ियाँ, मूंगफली, गुड़ और गजक का प्रसाद उपहार और शुभकामनाओं के साथ परिवार और दोस्तों के बीच आदान-प्रदान किया जाता है।
  • लोग इस दिन आग के सामने ‘आधार आए दिलाथेर जाए‘ शब्द बोलते हैं, इसका मतलब होता है कि घर में सम्मान आए और गरीबी जाए।
  • लोकप्रिय लोक गीत गाए जाते हैं और लोग भांगड़ा और गिद्दा करते हैं और पंजाब के पारंपरिक लोक नृत्य ढोल की थाप पर नाचते हैं।
  • जले हुए पवित्र अलाव की राख को लोगों द्वारा घर ले जाया जाता है क्योंकि यह धन और समृद्धि लाने के लिए माना जाता है।
  • इस लोहड़ी के त्यौहार में तिल का बहुत महत्व है। जैसे ही लोग आग में तिल फेंकते हैं, वे पवित्र अग्नि को चढ़ाने वाले तिलों की संख्या के रूप में परिवार में बेटों के लिए प्रार्थना करते हैं। विशेष रूप से ग्रामीण पंजाब की कृषि संस्कृति में बेटों का होना जरूरी है क्योंकि उनसे फार्महैंड के रूप में कार्य करने और अंततः खेतों को संभालने की उम्मीद की जाती है।
  • सिख समुदाय द्वारा लोहड़ी को वर्ष की शुरुआत भी माना जाता है।

पहली लोहड़ी

शादी या बच्चे के जन्म के बाद की पहली लोहड़ी का बहुत महत्व है। नए दूल्हा और दुल्हन, और नए जन्मे बच्चे को परिवार और दोस्तों द्वारा उपहार दिए जाते हैं। लोहड़ी का यह भव्य त्यौहार एक दावत के साथ आयोजित किया जाता है क्योंकि परिवार और दोस्त नव-विवाहित जोड़े या नवजात शिशु को आशीर्वाद देने के लिए इकट्ठा होते हैं।

आधुनिक संस्करण

बदलते समय और ग्लोबल वार्मिंग के बारे में लोगों में अधिक जागरूकता के साथ, लोहड़ी ने अब एक समकालीन दृष्टिकोण अपनाया है। स्वच्छ और हरे-भरे वातावरण के उद्देश्य से, लोगों ने लकड़ी के लिए काटे गए पेड़ों को फिर से लगाना शुरू कर दिया है। जो पवित्र अलाव के लिए ईंधन का काम करते हैं। आज, लोग वास्तव में पर्यावरण के प्रति बहुत जागरूक हैं और इसे बनाए रखने के लिए वे एक समुदाय के रूप में अधिक से अधिक पेड़ लगाने की दिशा में काम कर रहे हैं।

लोहड़ी हो, या मकर संक्रांति, या पोंगल, ये त्यौहार वास्तव में जीवन का एक उत्सव हैं और प्रकृति की विभिन्न शक्तियों के प्रति आम आदमी के कृतज्ञता के प्रतीक हैं।

लोहड़ी की शुभकामनाएं !!