Home / / आईआरसीटीसी द्वारा तत्काल टिकट के लिए बुक नाउ पे लेटर की सेवा हुई शुरू

आईआरसीटीसी द्वारा तत्काल टिकट के लिए बुक नाउ पे लेटर की सेवा हुई शुरू

August 4, 2017


Please login to rate

IRCTC-launches-book-now,-pay-later-scheme-for-tatkal-tickets-hindiहाल ही में इंडियन रेलवे केटरिंग एंड टूरिज़्म कॉर्पोरेशन (आईआरसीटीसी) ने एक ऐसी योजना लागू की है, जिससे कि लोगों को इसकी वेबसाइट से तत्काल टिकट बुक करने की सुविधा प्राप्त होगी और फिर ग्राहक बाद में अपनी सहूलियत के अनुसार भुगतान कर सकेगें। इस योजना का शुभांरभ 2 अगस्त को किया गया। अभी तक यह सुविधा केवल सामान्य आरक्षण के लिए उपलब्ध थी। जहाँ तक तत्काल टिकट बुकिंग का संबंध है, आईआरसीटीसी वेबसाइट द्वारा अपने टिकटों को कन्फर्म करने से पहले लोगों को पहले ऑनलाइन भुगतान के लिए पेमेंट गेटवे के माध्यम से भुगतान करने की आवश्यकता होती थी। अब आईआरसीटीसी उपयोगकर्ता कैश, क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड से इन टिकटों का भुगतान कर पाएंगे।

घर बैठे टिकट की डिलीवरी

अब लोग तत्काल टिकट सीधे अपने घर पर ही प्राप्त कर सकते हैं और फिर इसका भुगतान कर सकते हैं। यह जानकारी आईआरसीटीसी की आधिकारिक भुगतान प्रदाता एंडुरील टेक्नोलॉजी द्वारा प्रदान की गई है। ऐसा माना जाता है कि आईआरसीटीसी द्वारा रोजाना 1,30,000 टिकटों की लेनदेन प्रकिया की जाती है। आमतौर पर तत्काल टिकट दिन में बुकिंग आरंभ होने से कुछ ही मिनटों में बुक हो जाते हैं। नई सुविधा के साथ लेनदेन संबंधी किसी भी प्रकार की विफलताओं का सामना नहीं करना होगा। कई बार ऐसा होता है कि भुगतान हो जाने के बाद भी टिकट जारी नहीं हो पाता है।

अब समस्याएं और नहीं

कई कारणों से समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं जिनमें से एक प्रमुख कारण तकनीकी गड़बड़ियाँ हैं। हालांकि, अब नई प्रणाली के लागू होने से लोगों को और अधिक समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ेगा। उम्मीद है कि अब टिकट संबंधी लेनदेन की असफलता अतीत की बात हो जाएगी। वर्तमान समय में निरस्त कराये गये टिकट की कीमत वापसी 7 से 15 दिनों के बीच की जाती है। एंडुरील टेक्नोलॉजी के सीईओ अनुराग बाजपेयी के मुताबिक, टिकट की डिलीवरी होने पर भुगतान करने की यह नई सुविधा उन लाखों लोगों के लिए बेहद फायदेमंद होगी, जो यात्रा करने के लिए ट्रेनों का उपयोग करते हैं और ऑनलाइन तत्काल टिकट बुक करवाते हैं। बाजपेयी आशा करते हैं कि बुक नाउ पे लेटर कार्यक्रम बेहद सफल होगा।

ऑनलाइन प्रक्रिया के लिए प्रोत्साहन – यह कैसे काम करता है

बहुत सारे लोगों का कहना हैं कि इस फैसले से आईआरसीटीसी लोगों को व्यक्तिगत (भौतिक) रूप से टिकट काउंटरों से टिकट खरीदने के बजाय ऑनलाइन टिकट बुक करवाने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है। इस कार्यक्रम के क्रियान्वयन के लिए एक निश्चित तरीका बनाया गया है। उपयोगकर्ताओं को सबसे पहले irctc.payondelivery.co.in पर जाकर पंजीकरण करवाना होगा, ताकि वह भुगतान करने के विकल्प का लाभ उठा सकें। पंजीकरण के लिए आपको अपना पैन (स्थायी खाता संख्या) या आधार विवरण उपलब्ध करवाना होगा। जब कोई उपयोगकर्ता तत्काल टिकट खरीद रहा है तो उसको डिलीवरी पर भुगतान करने के विकल्प का चयन करना होगा।

उपयोगकर्ता द्वारा एक बार टिकट बुक करने के बाद, उसको तुरन्त ई-मेल या एसएमएस (शार्ट मैसेजिंग सर्विस) के माध्यम से टिकट भेज दिया जायेगा। बुकिंग पूर्ण हो जाने के 24 घंटों के भीतर भुगतान करना होगा। टिकट की बुकिंग करते समय भेजी गई भुगतान लिंक का उपयोग करके ग्राहक ऑनलाइन भुगतान करने का विकल्प भी चुन सकते हैं। उम्मीद की जा रही है कि यह सेवा सभी लोगों के लिए बेहद फायदेमंद साबित होगी। कुछ तथ्यों के बावजूद लेनदेन में होने वाली असफलताओं को नकारना होगा या कम से कम नजरअंदाज ही करना होगा, इससे उन लोगों को बहुत आराम हो जायेगा जो रेल टिकट खरीदने के लिए व्यक्तिगत (ऑफलाइन) काउंटर पर नहीं जा पाते या इसके लिए समय नहीं निकाल पाते हैं तथा इस प्रकार के कामों को ऑनलाइन करना पसंद करते हैं।