Home / Politics / मध्यप्रदेश में बराबर की टक्कर में कांग्रेस ने भाजपा को दी मात

मध्यप्रदेश में बराबर की टक्कर में कांग्रेस ने भाजपा को दी मात

December 12, 2018


Please login to rate

बराबर की टक्कर में कांग्रेस ने भाजपा को दी मात

मध्यप्रदेश में 2018 के विधानसभा चुनावों के नतीजे आ गए हैं और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) ने कुल 230 सीटों में से 114 सीटें हासिल करके शिवराज सिंह चौहान की अगुवाई वाली भाजपा को परास्त कर दिया।

अंतिम परिणाम:

कुल सीटेः 230

पार्टी सीटें वोटों की संख्या वोट शेयर
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) 114 15,595,153 40.9%
भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) 109 15,642,980 41.0%
निर्दलीय 4 2,218,230 5.8%
बहुजन समाज पार्टी (बसपा) 2 19,11,642 5.0%
समाजवादी पार्टी 1 4,96,025 1.3%

काफी समय के बाद चुनाव में ऐसी काँटे की टक्कर देखी गई है। चुनाव के एग्जिट पोलों की घोषणा आने से पहले भाजपा की शानदार जीत की संभावना थी और ऐसा लग रहा था कि राज्य के सबसे शक्तिशाली नेता शिवराज सिंह चौहान चौथी बार भी अपनी सत्ता को बरकरार रखेंगे।

चुनाव के एग्जिट पोल भी सही संकेत देने में असफल रहे हैं, क्योंकि उनके अनुसार भाजपा और कांग्रेस के परिणामों में काफी नजीदीकी की संभावनाएं व्यक्त की गईं थीं। इन एग्जिट पोलों के अनुसार भाजपा को 110 सीटें और कांग्रेस को 109 सीटें मिलने की संभावना थी लेकिन अंतिम नतीजा कांग्रेस के पक्ष में रहा है जिसमें कांग्रेस को 114 सीटें, जो कुल सीटों के आधे से मात्र एक सीट ही कम है, मिलीं हैं और भाजपा को 109 सीटें ही मुनासिब हो सकीं हैं।

चुनाव आयोग ने वोटों की गिनती को पूरा करने में 24 घंटे का समय लगाया है, जिसमें भाजपा और कांग्रेस दोनों में बराबर की टक्कर देखने को मिली है। यहां तक कि इसके नतीजे आज सुबह ही स्पष्ट हो पाए। अंत में कांग्रेस ने शिवराज सिंह चौहान, जो बढ़त बनाए हुए थे, को परास्त कर दिया।

भाजपा के लिए, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के साथ मध्यप्रदेश हारने के बाद 2019 के आम चुनाव में बहुत बड़ा फर्क पड़ने वाला है। भाजपा के लिए सबसे बड़ी हानि है उसके अपने गढ़ों का छिन जाना और एक अनोखे नेता के रूप में मोदी, जो राज्य के बाद राज्य पर जीत हासिल करने में निपुण हैं, को अपनी लहर को बनाए रखना होगा।

अपने तीन महत्वपूर्ण गढ़ खोने के बाद भाजपा को कांग्रेस से टक्कर लेने के लिए कोई नए तरीके खोजने होंगे। यह समय चुनौती का है।

तो चलिए देखते हैं कि मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान और भाजपा के साथ क्या गलत हुआ है।

सभी तीन राज्यों में भाजपा के हार के कारण निम्न हैं:

किसान संकट

सरकार पूरी तरह से देश भर में किसानों के संकट को दूर करने में नाकाम रही है। कम कीमत, अक्सर कम निवेश ने यह सुनिश्चित किया है कि या तो किसानों की आय स्थिर हो गई है या घट गई है। कृषि आदानों की बढ़ती कीमतें, बीमा कवर की कमी, पर्याप्त बीजों की उपलब्धता, सिंचाई बुनियादी ढांचे में खराब निवेश, कृषि थोक केंद्रों में खराब पहुंच, और अनियमित मानसून, ने किसानों की कमर तोड़ दी है।

देश भर में और विशेष रूप से मध्य प्रदेश में कई किसानों की आत्महत्या के मामलों की जानकारी मिली और फिर भी सरकार अपने हिंदुत्व एजेंडे को आगे बढ़ाने में लगी रही।  किसान जीवित रहने के लिए लड़ रहे हैं, और केंद्र और राज्य सरकारें इस मुद्दे को पर्याप्त रूप से संबोधित करने के दोषी नहीं ठहरा रही हैं। किसानों ने राज्य में मौजूदा सरकार को वोट देने के एकमात्र तरीके से जवाब दिया है। किसानों ने इन चुनावों में तो अपनी निराशा व्यक्त की ही है लेकिन इनका गुस्सा 2019 में भी दिखाई दे सकता है।

नई नौकरियों के सृजन में कमी

मध्य प्रदेश, देश के सबसे तेजी से बढ़ते राज्यों में से एक होने के बावजूद, ने बहुत कम नई नौकरियों का सृजन किया है। 2013 के बाद से, बड़ी संख्या में युवा मतदाता सूची में शामिल हो गए लेकिन वे बेरोजगार हैं। उनके वोट भी सत्ताधारी पार्टी के खिलाफ चले गए।

नोटबंदी

भाजपा की हार का एक मुख्य कारण नोटबंदी भी रहा है, लेकिन पार्टी किसानों के संकट के प्रति अपने समान दृष्टिकोण से इनकार कर रही है। इस असफल योजना और खराब निष्पादित विमुद्रीकरण के प्रयोग ने बाजार से नकदी को खत्म कर दिया, जिससे समाज के गरीब वर्ग सबसे ज्यादा प्रभावित हुए क्योंकि वे अपने दैनिक जीवन के लिए अल्प धनराशि पर निर्भर थे।

दलितों, पिछड़े वर्गों और आदिवासियों का अलग होना

बीजेपी ने दलितों वर्गों और अन्य सीमांत समूहों के वोट बैंक के लिए ऊंची जाति के वोट बैंक को भी खो दिया। बीजेपी ने समाज के कमजोर वर्गों को लाभ पहुंचाने के लिए कई योजनाएं शुरू की हैं, लेकिन ज्यादातर किसान हैं जिनको इन योजनाओं से लाभ प्राप्त नहीं हुआ है। दलितों के बड़े वर्गों ने यूपीए -2 के खिलाफ और 2013 में बीजेपी के पक्ष में मतदान किया। 2018 में, पार्टी ने उन लाभों को काफी हद तक नकार दिया है। 2019 में बीजेपी की संभावनाओं को प्रभावित करने के लिए इसकी उम्मीद की जाती है।

व्यापम विवाद

व्यापम विवाद मुख्यमंत्री चौहान के सभी सकारात्मक कार्यों पर एक बड़ा धब्बा बना हुआ है। समाज के बड़े वर्गों के साथ विस्तारित और अनिश्चित जांच अच्छी तरह से नही की गई है जो सत्य खोजने और दोषी को दंडित करने में सरकार के इरादे से असहमत रहते हैं।

भ्रष्टाचार

मुख्यमंत्री के परिवार के सदस्यों द्वारा किए गए भ्रष्टाचारों के बहुत से आरोपों ने मतदाताओं के मन पर गहरा असर छोड़ा है। राफेल सौदे जैसे अन्य केंद्रीय विवादों के आरोप देश भर में बीजेपी की साफ छवि को प्रभावित कर रहे हैं और विधायक इस पर कोई आपत्ति नहीं जता रहे हैं। भ्रष्टाचार के नजरिये से देखे तो, कांग्रेस को शिवराज सिंह चौहान के जाने के बाद रणनीतिक संभाल का एक महत्वपूर्ण मौका मिला है और इस सब ने मुख्यमंत्री और उनकी पार्टी को काफी चोट पहुंचाई है।

नए चेहरे या नये विचारों की कमी

किसी भी चेहरे को लगातार तीन बार किसी पद को संभालना मतदाताओं को उबा देता है और उसकी ख्यति तथा अच्छाइयों को भी नष्ट कर देता है। जिससे मतदाताओं को नये विकल्पों की तलाश करने के लिए मजबूर होना पड़ता है। आम चुनावों के पास आने के साथ-साथ समय और भी बुरा नहीं हो सकता है। मतदाताओं ने बदलाव के लिए मतदान किया है।

जमीनी स्तर पर कांग्रेस का पुनरुत्थान

सत्ता विरोधी लहर ने बीजेपी को प्रभावित किया और कांग्रेस इस अवसर की पहचान करने में बिल्कुल समय नही गवाया। मुख्यमंत्री का कोई निश्चित चेहरा न होने से और तीन मुख्यमंत्री दावेदार और कोई स्पष्ट आर्थिक एजेंडा न होने के कारण, कांग्रेस ने इस संदेश को सफलतापूर्वक पहचाना कि भाजपा लोगों के रुझानों में नही आ रही है। अनुभव की लड़ाई, बीजेपी के मजबूत बिंदु का इस्तेमाल उस विद्रोही कांग्रेस द्वारा किया गया था जो जनता के दिलों तक पहुंच सका। 7 दिसंबर को, उन्होंने अपना विकल्प व्यक्त किया।

2019 का महासंग्राम शुरू हो चुका है। लोगों की समस्याओं का समाधान करने वाली पार्टी को ही 2019 का ताज मिलने वाला है।