Home / Politics / 2019 के लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश राज्य

2019 के लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश राज्य

January 4, 2019


Please login to rate

राजनीतिक युद्ध का सबसे बड़ा मैदान उत्तर प्रदेश

1950 में राज्य का दर्जा प्राप्त करने वाला उत्तर प्रदेश, राष्ट्रीय राजनीति सहित कई चेतनाओं के साथ देश के सबसे लोकप्रिय और प्रमुख राज्यों में से एक रहा है। यह भारत का सबसे अधिक आबादी वाला राज्य है और इसलिए यहाँ का वोट बैंक सबसे अधिक है। 80 लोकसभा सीटों के साथ उत्तर प्रदेश लोकसभा सीटों के मामले अव्वल है।

राज्य को अक्सर संसद का मार्ग कहा जाता है, और शायद यह बात सौ फीसदी सच भी है। 2019 के लोकसभा चुनावों की शुरुआत होने वाली है और इस पर ध्यान केंद्रित करने के साथ, सबसे अधिक ध्यान स्वतः ही यूपी में स्थानांतरित हो गया है। इस विशाल राज्य में राजनीतिक दल कैसे प्रदर्शन करते हैं, यह संसदीय चुनावों में महत्वपूर्ण हो सकता है।

संक्षिप्त अवलोकन

यह समझने के लिए कि क्यों उत्तर प्रदेश पार्टियों की प्रमुख चिंताओं में से है, यह कुछ सांख्यिकीय आंकड़ों पर नज़र डालने में मदद करेगा :

उत्तर प्रदेश

लोकसभा में सीटों की संख्या : 80 (543 में से)

राज्यसभा में सीटों की संख्या : 31 (245 में से)

उत्तर प्रदेश से आने वाले प्रधानमंत्रियों की संख्या : 8 (14 में से)

चुनाव आयोग द्वारा फरवरी 2017 के आंकड़ों के अनुसार, उत्तर प्रदेश में लगभग 14.12 करोड़ मतदाता हैं।

निचले सदन (लोकसभा) में यूपी की कुल सीट हिस्सेदारी लगभग 15% है, साथ ही साथ दोनों सदनों में इसकी हिस्सेदारी भी है। राज्य अपने धार्मिक जनसांख्यिकी के कारण भी महत्वपूर्ण है। यह देश में मुस्लिम आबादी का सबसे बड़ा अनुपात है, और यह कोई रहस्य नहीं है कि उत्तर प्रदेश राज्य “हिंदुत्व” राजनीति के लिए अक्सर खबरों में रहता है। संयुक्त प्रभाव महत्वपूर्ण है, जिससे राज्य सांप्रदायिक राजनीति के लिए एक महत्वपूर्ण खेल का मैदान बन गया है।

लोकसभा चुनाव 2014

2014 के लोकसभा चुनावों में, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) स्पष्ट बहुमत के साथ “मोदी मैजिक” अपने चरम पर था। उत्तर प्रदेश में भी, पार्टी 71 सीटें जीतने में सफल रही थी, यह अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था। अन्य पार्टियां राज्य में लोकप्रियता के नाम पर बहुत कम सीटें हासिल कर पाई।

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) राज्य में केवल दो सीटें जीत सकी, जो शायद एक उपलब्धि थी, ध्यान दें कि यह निर्वाचन क्षेत्र रायबरेली (सोनिया गांधी) और अमेठी (राहुल गांधी) थे। समाजवादी पार्टी (सपा) को भी केवल 5 सीटें के साथ संतोष करना पड़ा था।

लोकसभा चुनाव 2019

लगभग पांच साल बाद तेजी से आगे बढ़ते हुए, देश 2019 के लोकसभा चुनावों के लिए तैयारी कर रहा है। राजनीतिक दलों ने इस चुनावी महासंग्राम के लिए कमर कसनी शुरू कर दी है। हालांकि सत्ताधारी पार्टी सत्ता में वापसी के प्रति आश्वस्त है, लेकिन विपक्ष में “महागठबंधन” को लेकर काफी कानाफूसी चल रही है। हालाँकि, कुछ तथ्यों को निश्चितता के साथ बताया जा सकता है।

बीजेपी की लोकप्रियता, अगर दूर नहीं हुई है तो कम से कम डगमगा तो गई है। पार्टी ने हाल ही में 2018 के विधानसभा चुनावों में तीन प्रमुख राज्यों (मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, और राजस्थान) पर अपनी पकड़ खो दी है। यहां तक कि उत्तर प्रदेश में भी, लोकसभा चुनाव के नजदीक आते ही स्थिति बढ़िया नहीं लग रही है।

राज्य में 2014 के बाद से दो लोकसभा उप-चुनाव हुए हैं, दोनों ही राजनीतिक दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण हैं- गोरखपुर और फूलपुर। निर्वाचन क्षेत्रों में वर्तमान सीएम योगी आदित्यनाथ और डिप्टी-सीएम मौर्य क्रमशः अध्यक्षता कर रहे थे। 2017 में उनके इस्तीफे के बाद, दोनों सीटें समाजवादी पार्टी ने जीती थीं।

आगे क्या है?

जबकि सत्ताधारी पार्टी सत्ता-विरोधी लहर के खिलाफ संघर्ष करेगी, विपक्ष के लिए एक स्पष्ट लाभ के समान है। समापन के कुछ महीनों में गठित गठबंधन राजनीतिक दलों के लिए इस सौदे को बना या बिगाड़ सकते हैं। उदाहरण के लिए, बसपा-सपा गठबंधन पहले से ही चल रहा है, जिसमें कांग्रेस की भागीदारी अभी भी धूमिल है। एक महागठबंधन, जो राज्य से भाजपा को हटाने के लिए तैयार है, और परिणामस्वरूप संसद से, सरकार के लिए एक गंभीर चुनौती बन सकता है।

इसके अलावा, उत्तर प्रदेश में काफी नाजुक वोट बैंक है विशेष रूप से इसकी सांप्रदायिक अनबन को देखते हुए। बीजेपी के लिए, धर्मनिरपेक्षता का विषय कठिन समस्या बना हुआ है, खासकर तब से जब से कई लोगों ने योगी आदित्यनाथ को सीएम के रूप में चुना है। क्षेत्रीय पार्टियों और कांग्रेस के लिए, इसने विपक्षी पार्टियों के लिए एक सुनहरे अवसर के लिए एक धर्मनिरपेक्ष रुख के साथ आने का मार्ग प्रशस्त किया है। युद्ध के मैदान में टिके रहने के लिए, भाजपा को, अपने पास स्पष्ट गठबंधन न होने के साथ, मौजूदा आधार में विविधता और विस्तार करना होगा।

उत्तर प्रदेश की संसद में सबसे अधिक संख्या में सांसद है। राज्य एक बड़ी संपत्ति और राजनीतिक दलों के लिए एक बड़ी बाधा साबित हो सकता है। तो, लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश से किसको फायदा होगा? यह केवल कुछ ही महीनों मे स्पष्ट हो जाएगा।

Summary
Article Name
2019 के लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश राज्य
Author
Description
उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय राजनीति में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। 2019 के लोकसभा चुनाव के साथ, राज्य चुनाव के प्रवाह का निर्धारण कैसे करेगा?