Home / Politics / राज्य में भाजपा की साख को बचा पाने में क्यों नाकामयाब रहीं वसुंधरा राजे?

राज्य में भाजपा की साख को बचा पाने में क्यों नाकामयाब रहीं वसुंधरा राजे?

December 12, 2018


Please login to rate

वसुंधरा राजे को क्यों गंवानी पड़ी सत्ता?

भरतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, जो कुछ महीने पहले एक कमजोर पार्टी थी, ने वसुंधरा राजे के नेतृत्व वाली भाजपा को चारो खाने चित कर दिया।

199 सीटों में से, कांग्रेस ने 99 सीटें अपने नाम कीं, वहीं भाजपा को केवल 73 सीटों से ही संतोष करना पड़ा। काउंटिंग के शुरुआती चरण में ऐसा लग रहा था कि भाजपा बहुत बुरी तरह से हार रही है, लेकिन अंतिम चरण आने तक 73 सीटों के साथ भाजपा ने अच्छा प्रदर्शन किया। कांग्रेस, राजस्थान में अगली सरकार बनाने जा रही है और सभी की निगाहें राजस्थान के अगले मुख्यमंत्री ओर टिकी हुईं हैं।

अंतिम परिणाम:

कुल सीटें: 200

परिणाम घोषित: 199 (एक सीट – रामगढ़ स्थगित)

पार्टी सीटें वोटों की संख्या वोट शेयर
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) 99 13,935,201 39.3%
भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी)   73 13,757,502 38.8%
निर्दलीय 13 3,372,206 9.5%
बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) 6 14,10,995 4.0%
राष्ट्रीय लोकतंत्रिक पार्टी 3 8,56,038 2.4%
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी – मार्क्सवादी [सीपीआई (एम)] 2 4,34,210 1.2%
भारतीय जनजातीय पार्टी 2 2,55,100 0.7%
राष्ट्रीय लोक दल 1 1,16,320 0.3%

2013 में वसुंधरा राजे ने भाजपा का नेतृत्व शानदार करते हुए 200 में से 163 सीटों पर अपना कब्जा जमा कर शानदार प्रदर्शन किया था। वहीं कांग्रेस महज 21 सीटों पर ही सिमट गई थी। तो, नई दिल्ली में सत्ता में अपनी पार्टी के साथ एक लोकप्रिय नेता वसुंधरा राजे ने पांच साल में लोगों से इतनी बड़ी लोकप्रियता कैसे खो दी? अमित शाह की अगुवाई वाली भाजपा के दिग्गज राजनीतिक रणनीतिकारों की रणनीति कैसे फ्लॉप हो गई?

राजस्थान जातीय-वर्चस्व वाला राज्य है जहां जाति के आधार पर टिकट वितरण किया जाता है और नतीजे भी जाति के आधार पर आते हैं। परिणामों से, यह स्पष्ट है कि भाजपा ने राज्य में मौजूदा राजनीतिक गतिशीलता को गलत तरीके से पढ़ा। जिस वजह से पार्टी वसुंधरा राजे की नीतियों और सरकार की शैली के खिलाफ लोगों की चिंताओं को पहचानने में पूरी तरह से असफल रही।

परिणाम जमीनी स्तर पर अलगाव की भावना की तरफ इशारा करते हैं, जहां निर्वाह किसान कोर मतदाता शामिल हैं। इसका एक बड़ा भाग केंद्र और राज्य की कल्याणकारी योजनाओं के लाभ से वंचित रहा है। राज्य के कई हिस्सों में अनिश्चित मानसून और लगातार सूखे की वजह से, किसान बेहतर मानसून वर्षों के दौरान भी मर रहे हैं।

निवेश पर कम रिटर्न और फसल की विफलता के कारण हुए नुकसान की वजह से लोग जनता से काफी नाराज थे। विभिन्न मीडिया द्वारा किए गए सर्वेक्षणों ने वसुंधरा राजे सरकार से पता चला कि स्थानीय लोग इनसे कितना नाराज थे, क्योंकि कई लोगों ने पूछे जाने पर तो यहां तक कहा कि मुख्यमंत्री ने पिछले पांच वर्षों में अपने क्षेत्र का दौरा नहीं किया।

विमुद्रीकरण से होने वाली नगदी की समस्याओं की वजह से लोगों का अलगाव और भी बदतर हो गया था। जयपुर या दिल्ली से किसी भी समस्या का समाधान न किए जाने की वजह से जनता की नारजगी चरम सीमा तक बढ़ गई थी। जिस वजह से मतदाताओं ने कांग्रेस पर भरोसा जताते हुए भाजपा को दंडित किया है।

राज्य में कांग्रेस द्वारा जीती गईं 99 सीटें कांग्रेस के हिस्से पर किसी भी प्रमुख लाभ या कार्रवाई को प्रतिबिंबित नहीं करती हैं, और पार्टी परिणाम के लिए विरोधी सत्ता का शुक्रिया अदा कर सकती है। 2018 में बीजेपी के 73 के साथ 2013 में कांग्रेस की 21 सीटों की तुलना करें। कांग्रेस ने बीजेपी की सीटें हथियाईं हैं, लेकिन व्यापक मार्जिन से नहीं, जो वसुंधरा राजे की निरंतर लोकप्रियता को इंगित करता है।

झालरापाटन – जो मुख्यमंत्री का निर्वाचन क्षेत्र है, में कोई लोहा ले। भाजपा के सदस्य और पार्टी के निष्ठावान सदस्य जसवंत सिंह के बेटे, मानवेंद्र सिंह ने वसुंधरा राजे के खिलाफ कांग्रेस के टिकट पर उनके मैदान पर चुनाव लड़ने के लिए भाजपा से इस्तीफा दे दिया था। यह एक हाई प्रोफाइल प्रतियोगिता सभी थी।

अंत में, वसुंधरा राजे ने मानवेंद्र सिंह पर 34, 980 मतों के अंतर से जीत हासिल की। 2013 में वसुंधरा राजे ने 60,896 मतों के अंतर से सीट जीती थी। उन्होंने निश्चित रूप से अपने निर्वाचन क्षेत्र में मतदाताओं के बीच लोकप्रियता खो दी है। संदेश जोरदार और स्पष्ट है कि राज्य के मतदाता जागरुक हो गए हैं।

कांग्रेस की तरफ से दो बार मुख्यमंत्री रह चुके अशोक गहलोत ने जोधपुर के बाहर सरदारपुरा निर्वाचन क्षेत्र से बीजेपी के शंभू सिंह खेतर के खिलाफ 40,000 मतों के अंतर से जीत हासिल की। 2013 में, गहलोत ने उसी क्षेत्र में उसी प्रतिद्वंद्वी को 18,000 वोटों से हराया था। बीजेपी से कांग्रेस तक मतदाता वफादारी का स्थानांतरण जारी है। गहलोत एक बार फिर मुख्यमंत्री पद के लिए दौड़ में है।

कांग्रेस के सचिन पायलट राज्य और राष्ट्रीय राजनीति में एक और उभरता हुआ चेहरा हैं और मुख्यमंत्री पद की दौड़ में है। उन्होंने यूनस खान (बीजेपी) को 54,179 मतों से पराजित किया है।

किसानों और अन्य पिछड़े समुदायों को खोने के अलावा, बीजेपी ने शक्तिशाली राजपूत समुदाय, जो भाजपा के पारंपरिक समर्थक थे, के बड़े वर्गों से समर्थन खो दिया था। 2013 में जीतने के बाद 2016 में आरक्षण को लेकर हुए विरोध प्रदर्शन की वजह से वसुंधरा राजे ने अपनी लोकप्रियता खो दी थी। जो इस चुनाव में भाजपा के हार के कारणों में से एक हैं।

भाजपा की आगे की राह बहुत कठिन है। राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में इसका गढ़ ध्वस्त हो गया है। आम चुनाव में, पार्टी हाई कमांड को जनता को प्रभावित करने के लिए कुछ जादूई बुलेट के साथ उतरना होगा। हिंदुत्व ने काम नहीं किया है और बड़े पैमाने पर बेकारी-अनुदान करने के लिए सरकार के पास फंड नहीं है। किसी भी करिश्मे के लिए, जिससे पार्टी दोबारा से अपने रंग में आ जाए, समय बहुत कम है, लेकिन अमित-शाह और मोदी करिश्मा करने के लिए जाने जाते है।

2019 के महासंग्राम का बिगुल अब बज चुका है।