Home / / प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) – 2022 तक सभी के लिए आवास

प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) – 2022 तक सभी के लिए आवास

May 23, 2017


Please login to rate

pradhan-mantri-awas-yojna-pmay-housing-for-all-by-2022-665x347 copyप्रधानमंत्री आवास योजना

वर्तमान अनुमानों के अनुसार, देश की शहरी आबादी, जिसमें पिछले एक दशक में पहले से तेज वृद्धि देखी गई है, आने वाले वर्षों में एक अभूतपूर्व विकास देखने को तैयार है। वर्ष 2050 तक देश की शहरी आबादी 814 मिलियन से अधिक पहुँचने के आसार हैं। यहाँ मौजूदा स्तरों से लगभग 400 मिलियन की वृद्धि है। किफायती आवास, स्वच्छता, विकास, और शहर के निवासियों के लिए एक सुरक्षित वातावरण देना सबसे बड़ी चुनौती है, जिसका सामना देश को करना पड़ रहा है। वर्तमान में, एक शहर का विकास अचल संपत्ति वाले डेवलपर्स के नेतृत्व में होता है जो उन क्षेत्रों का निर्णय करते हैं जिन्हें विकसित किया जाएगा। पिछले कुछ दशकों में रियल एस्टेट की कीमतों में भी बढ़ोत्तरी हुई है जिससे आम आदमी को एक घर का मालिक होने का सपना दिखाई देता है। इन सभी मुद्दो को ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने “2022 तक सबके लिए आवास” योजना बनाई जिसे प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमए) के रूप में जाना गया, जिसका शुभारंभ 25 जून 2015 को विज्ञान भवन, नई दिल्ली में एक समारोह में गया। किफायती आवास योजना के पूरक के रूप में दो अन्य योजनाएं भी शुरू की गईं, देश भर में स्मार्ट शहरों के विकास के लिए एक योजना और कायाकल्प एवं शहरी परिवर्तन के लिए अटल मिशन (एएमआरयूटी) जो कि शहरी नवीनीकरण और देश के प्रमुख शहरी क्षेत्रों में बुनियादी ढाँचे के उन्नयन के लिए अनुमति देता है।

देश के सभी हिस्सों से आए नगरपालिकाध्यक्ष, नगरपालिका आयुक्त और राज्य सरकार के अधिकारियों की उपस्थिति में भारत के प्रधानमंत्री ने पीएमएवाई और दो अन्य योजनाएं शुरू कीं। इसके शुभारंभ पर उन्होंने कहा, “देश की 40 प्रतिशत आबादी शहरों में रहती है और यह सरकार की जिम्मेदारी है कि उनके जीवन के स्तर को बढ़ाएं। हम उन्हें उनके भाग्य पर नहीं छोड़ सकते हैं- यह योजना सभी के लिए आवास सुनिश्चित करेगी, जिससे कि प्रत्येक शहरी गरीब के पास खुद का घर हो। एएमआरयूटी ​​ने शहरों में बुनियादी सुविधाएं तथा स्वच्छता सुनिश्चित की है।

योजना का विवरण

प्रधानमंत्री आवास योजना की शर्तों के अनुसार, भारत सरकार 2022 तक लगभग दो करोड़ घरों का निर्माण करेगी। इस योजना के तहत प्रदान किए गए प्रत्येक घर में 1 लाख रुपये का केन्द्रीय अनुदान शामिल होगा जो 2.3 लाख रुपये तक बढ़ाया जा सकता है। 6.5 प्रतिशत ब्याज दर सब्सिडी योजना के हिस्से के रूप में आएगी (पिछली योजनाओं में 1 प्रतिशत की ब्याज दर सब्सिडी थी) इसका मतलब यह है कि निम्न आय समूहों के आवेदक आवास योजना का लाभ उठा सकते हैं, 6.5 प्रतिशत की ब्याज सब्सिडी के साथ आवास ऋण के लिए भी आवेदन कर सकते हैं। इन आवास ऋणों के लिए अवधि 15 साल तक बढ़ सकती है तथा इस तरह के ऋण को सब्सिडी द्वारा प्राप्त कुल लाभ 1 से 2.3 लाख रूपए तक बढ़ाया जाएगा। वर्तमान में आवास ऋण ब्याज दरों का अनुमान लगभग 10.5 प्रतिशत है। इसलिए सब्सिडी आवेदकों के लिए एक बड़ी राहत होनी चाहिए। ‘सभी के लिए आवास योजना’ पिछली सभी सरकारी आवास योजनाओं की जगह ले लेगी, जैसे राजीव आवास योजना।

प्रारंभिक अनुमान के अनुसार, 2022 तक सभी के लिए घर अगले सात वर्षों में केंद्र सरकार तीन लाख करोड़ रुपये का खर्च लाएगा। राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के साथ वार्ता के एक साल के दौर के बाद शुरू की गई योजनाओं के लिए परिचालन दिशा निर्देश को अंतिम रूप दिया गया है।

पीएमएवाई के अलावा, सरकार शहरी क्षेत्रों में आवासों के विकास के लिए कई योजनाएं प्रोत्साहन और सब्सिडी के साथ लाई है। इसमें राज्य सरकारों द्वारा झोपड़पट्टी क्षेत्रों में आवास परियोजनाओं के विकास के लिए 1 लाख रूपये का अनुदान देती है।

किफायती किराये का आवास, एक 6,000 करोड़ रुपये की पहल, जो शुरू में ‘सभी के लिए आवास’ योजना का हिस्सा थी, एनडीए सरकार की प्रमुख योजना से नदारद थी। यह शहरी क्षेत्रों में मलिन बस्तियों के प्रसार का मुकाबला करने वाला उपाय है जो बाद में एक अलग योजना के रूप में जारी किया जा सकता है।

प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) की अवधि और क्षेत्र:

प्रथम चरण (अप्रैल 2015 – मार्च 2017): यह चरण राज्यों / संघ शासित प्रदेशों से चयनित 100 शहरों को कवर करेगा।

द्वितीय चरण (अप्रैल 2017 – मार्च 2019): पीएमएवाई के दूसरे चरण में 200 अतिरिक्त शहरों को कवर किया जाएगा

तृतीय चरण (अप्रैल 2019 – मार्च 2022): तीसरे और अंतिम चरण में शेष सभी शहरों को कवर किया जाएगा।

प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए चयनित शहरों की सूची

राज्य शहर
आंध्र प्रदेश अदोनी, अमरावती कैपिटल सिटी, अनंतपुर, भीमवरम, चिलकल्यिरिपेट, चिराला, चित्तूर, धर्मावरम, एलुरु, गुडिवाड़ा, गुडुर, गुंटकल, गुंटूर, जीवीएमसी, हिंदूपुर, कड़पा, कादिरी, काकीनाड़ा, कवली, कुर्नूल, मछलीपटनम, मदनपल्ले, मंगलागिरी, नंदील, नारसरावपेट, नेल्लोर, ओंगोले, पलाकोले, प्रोड्डत्तूर, राजामुंद्री, रायचोटी, श्रीकाकुलम, श्रीकालहस्ती, ताडेपल्लिगुडेम, ताड़पत्री, तेनाली, तिरुपति, विजयवाड़ा, विजयनगरम, यममिग्नूर
छत्तीसगढ़ अहीवाड़ा, अंबिकापुर, बडे बैचेली, बागबहार, बैकुंठपुर, बलद, बलोदा बाजार, भाटापारा, भिलाई चाड़ोदा, भिलाई नगर, बीजापुर, बिलासपुर, बीरगाँव, चंपा, चिरमिरी, दंतेवाड़ा, धमतरी, दुर्ग, गोबरा नवापारा, जगदलपुर, जशपुर नगर, कांकर, कवर्धा, कोंडागाँव, कोरबा, महासामंड, मना-कैंप, मेनेंद्रगढ़, मुंगेली, नेला-जंजगिर, नारायणपुर, पेंद्रा, रायगढ़, रायपुर, राजनांदगांव, सुकमा
गुजरात अहमदाबाद, अमरेली, आनंद, अंकलेश्वर, भरूच, भावनगर, भुज, दीसा, गांधीधाम, गांधीनगर, हिमतनगर, जेटपुर, कडी, कलोल, महेसना, मोरबी, नवसारी, पालनपुर, पाटण, राजकोट, सावरकंडला, सिद्धपुर, सूरत, उना, उंझा, वडोदरा, वल्लभ विद्यानगर, वलसाड, वापी, विसनगर
हरियाणा फरीदाबाद, गुड़गांव, हिसार, करनाल, पानीपत, रोहतक, सिरसा, सोनीपत, यमुनानगर
हिमाचल प्रदेश बद्दी, बिलासपुर, चंबा, धर्मशाला, हमीरपुर, कुल्लू, मंडी, नाहन, नालागढ़, परवानु, शिमला, सोलन, उना
जम्मू और कश्मीर अनंतनाग, बड़गाम, बारामुला, बाशोली, भादरवा, बिजबेहारा, डोडा, गंदरबल, हंडवारा, जम्मू, कारगिल, कठुआ, किश्तवार, कुपवाड़ा, लेह लडाख, पुलवामा, पंच, आर.एस.पुरा, राजौरी, रामबन, सांबा, शूपियान, सोपोर, श्रीनगर, उधमपुर
झारखंड बोकारो स्टील सिटी, चास, चिरकुंडा, देवगढ़, धनबाद, दुमका, गिरिडीह, गुमला, हजारीबाग, जमशेदपुर, लोराहदागा, मेदिनीनगर, फुस्रो, रामगढ़ छावनी, रांची
केरल अलाप्पुझा, कल्पेटा, कन्नूर, कासारगोड, कोच्चि, कोल्लम, कोट्टायम, कोझिकोड़, मलप्पुरम, पलक्कड़,  पथानामथिट्टा, तिरुवनंतपुरम, थोडुपुझा, त्रिशूर
मध्य प्रदेश अगर, अलीराजपुर, अनुपपुर, अशोकनगर, अष्ट, बालाघाट, बारवानी, बेरासिया, बैतुल, भिंड, भोपाल, बीना-इटावा, बुद्नी, बुरहानपुर, चंदला, छतरपुर, छिंदवाड़ा, दबरा, दमोह, दतिया, देवास, धार, दिंडोरी, गंज बसौडा, गूना, ग्वालियर, हरदा, होशंगाबाद, इंदौर, इटारसी, जबलपुर, झाबुआ, खजुराहो, खंडवा, खरगोन, खुराई, मैहर, मनावर, मंडला, मंदसौर, मोरेना, मुरवरा (कटनी), नागदा, नरसिंहपुर, नस्त्रुल्लागंज, नीमच, पन्ना, पाथरिया, पिथमपुर, रायसेन, राजगढ़, रामपुर बगेलान, रतलाम, रेहती, रीवा, सागर, सरनी, सतना, सेहोर, सेंधवा, सिवनी, शहडोल, शाहगंज, शाजपुर, शिओपुर, शिवपुरी, सिधी, सिहोरा, सिंगरौली, सोनकेच, टिकमगढ़, उज्जैन, उमरिया, विदिशा
मणिपुर एंड्रो, बिश्नुपुर, हेरोको, इम्फाल, जिरीबाम, कक्किंग, कक्किंग खुनौ, कुंबी, क्वक्टा, लमलाई, लमसांग, लीलोंग (इम्फाल वेस्ट), लीलोंग (थौबल), मयंग इम्फाल, मोइरंग, मोरेह, नांबोल, निंगौउखोंग, ओइनाम, समूरौ एनपी, सेकेमाई बाजार, शीखोंग सेकेमाई, सुगुनू, थोंगखोंग लक्ष्मी बाज़ार, थौबल, वांगजिंग, वांगोई, यैरीपोक
नागालैंड चांगटोंग्या, चुमुकेदीमा, दीमापुर, किपैर, कोहिमा, लॉंगलांग, मेडीपिफेमा,  मोकोकचुंग, सोम, नागिनिमोरा, पेरेन, पीफुट्सरो, फेक, त्समिनीउ, ट्यूएनसांग, तुली, वोखा, ज़ूनहेबोटो
ओडिशा आनंदपुर, अथागढ़, बलांगीर, बालेश्वर, बनपुर, बांकी, बरगढ़, बरीपदा, भद्रक, भवानीपटना, भुवनेश्वर, बिरिमटापुर, ब्रह्मपुर, ब्रह्जाजनगर, बायासनगर, चौधवार, कटक, देबागढ़, ढेंकनाल, जगतसिंहपुर, जाजपुर, जयपुर, झारसुगुडा, कंटानाबजी, खड़ीर, खोरधा, कोचिंडा, कोनार्क, कोरापुट, मलकानगिरी, नयागढ़, परादीप, पुरी, रायरंगपुर, राजगंगपुर, राउरकेला, रायगढ़, संबलपुर, सुंदरगढ़, तलचर, टिटलागढ़, उमरोट
पश्चिम बंगाल अलीपुरद्वार, अराबाग, आसनसोल, अशोकनगर कल्याणगढ़, बदुरिया, बैद्यबाटी, बालूरघाट, बांकुरा, बार्सियारिया, बैरनपुर, बरसीपुर, बरसीपुर, बरूईपुर, बसिरहाट, बेलदंगा, बेरहमपुर, भद्रेश्वर, भाटपाड़ा, बिधाननगर, बिरनगर, बिश्नुपुर, बोलपुर, बोंगाँव, बुधे बड़गे, चाकदाहा, चंपदानी, चन्दनगर, चंद्रकोना, कोंटाई, कूपर के शिविर, दैन्हत, दालखोला, दानकुनी, दार्जिलिंग, धुलियान, धूपगुड़ी, डायमंड हार्बर, दनघाट, दुहराजपुर, डम डम, दुर्गापुर, ईग्रा, अंग्रेजी बाज़ार, गंगारामपुर, गरुलिया, गयसपुर, घाटल, गोबरदंगा, गुस्करा, हाबरा, हल्दा, हल्दीबारी, हिसार, हावड़ा, हुगली-चिसुरह, इस्लामपुर, जलपाईगुड़ी, जंगीपुर, जयनगर, मझिलपुर, झलादा, झारग्राम, जयगंज-अजीमगंज, कालियागंज, कालीम्पोंग, कलना, कल्याणी, कामरहाटी, कांचरापाड़ा, कंडी , कटवा, खड़गपुर, खार, खर्डह, कुच बिहार, कोलकाता, कोनगर, कृष्णनगर, क्षीरपी, कुर्सियांग, मध्यमग्राम, महेश्तला, माळ, मथविंग, मेदिनीपुर, मेकलीगंज, मेमारी, मिरीक, मुर्शिदाबाद, नबादवीप, नैहाती, नालहाटी, न्यू बैराक कोरपुर, उत्तर बैरकपुर, उत्तर डमडुम, पुरानी मालदा, पनिहती, पंसकुरा, पुजली, पुरुलिया, रघुनाथपुर, रायगंज, राजपुर सूर्यपुर, रामजीवनपुर, रामपुरहट, रानाघाट, ऋष्रा, सैंथिया, संतपुर, सेरामपुर, सिलीगुड़ी, सोनमुखी, सूरी, दक्षिण डमदम, सूरी, तेहरपुर, ताकी, तामलुक, तारकेवार, टिटागढ़, तुफानगंज, उलबेरिया, उत्तरपाराकोट्रंग
राजस्थान अजमेर, अलवर, बालोतरा, बंसवाड़ा, बरन, बीवर, भरतपुर, भीलवाड़ा, भिवाडी, बीकानेर, बुंदी, चाकू, चित्तौरगढ़, चुरु, धौलपुर, फलना, गंगानगर, गंगापुर शहर, हनुमानगढ़, हिंदुओं, जयपुर, झलावर, झुनझुनुन, जोधपुर, किशनगढ़ , कोटा, मकराना, नागौर, नाथद्वारा, पाली, प्रतापगढ़, पुष्कर, राजसमंद, सरदारशहर, सवाई माधोपुर, सीकर, सुजानगढ़, टोंक, उदयपुर, विजयनगर
तेलंगाना अचलमबाद, आर्मूर, भोंगिर, बोधान, गजवेल, जीएचएमसी, जांगांव, करीमनगर, खम्मम, महबूबबाद, महबूबनगर, मेडक, मेटपॉल, मिरियलागुडा, नागर्कनूल, नलगोंडा, निर्मल, निजामाबाद, पलवांचा, संगारेड्डी, सिद्धिपेट, सिरसिला, सूर्यपेट, विकाराबाद, वानापैथी, वारंगल, ज़हिराबाद

 महिलाओं एवं एससी/एसटी को लाभ

प्रधानमंत्री आवास योजना 2022 तक सभी के लिए अपने किफायती आवास के लक्ष्य को पूरा करने के बारे में स्पष्ट है, लेकिन यह सुनिश्चित करता है कि इस योजना का लाभ महिलाओं, भारतीय समाज के आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों और अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों को मिलेगा। एक अभूतपूर्व कदम में, सरकार ने देश में उपेक्षित समूहों के हितों की रक्षा करने का निर्णय लिया है। किन्नर और विधवा, निम्न आय के समूहों और शहरी गरीब सदस्यों, तथा अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति को किफायती आवास योजना का लाभ उठाने की कोशिश में प्राथमिकता दी जाएगी। समाज के इन समूहों के सदस्यों के अलावा, जो घर से बाहर हैं, वरिष्ठ और निःशक्त लोग भी घरों के आवंटन में प्राथमिकता प्राप्त करेंगे। यदि ज़रूरत हो तो वे भूमिगत घर का चयन भी कर सकेंगे। इसके अलावा, यह भी अनिवार्य है कि इस योजना के लाभ उठाने के दौरान, लाभार्थियों को जरूरी है कि वे अपनी माँ या पत्नी के नाम का उल्लेख करें। समाचार रिपोर्टों के मुताबिक, यह विवरण एक लॉन्चिंग और शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्रालय के अधिकारी द्वारा इस योजना के शुभारंभ के पहले प्रकट किया गया था। यह योजना भारत में संरक्षण और लाभ के संदर्भ में अद्धितीय है, जोकि पूर्ववर्ती उपेक्षित समूहों जैसे किन्नर और विधवाओं तक पहुँची हुई है।

स्मार्ट शहर और एएमआरयूटी

स्मार्ट शहरों के लिए सरकार की योजना के अनुसार, अगले पाँच सालों में देश में 100 स्मार्ट शहरों का विकास किया जाएगा। इस परियोजना में प्रमुख राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय हितधारकों को शामिल किया जाएगा और इसके लिए 48,000 करोड़ रुपये की लागत लगायी जाएगी। इसके साथ ही देश में 500 से अधिक शहर, शहरी नवीकरण के लिए तैयार किए गए हैं – इनमें सुविधाओं का उन्नयन, विशेषकर जल निकासी और स्वच्छता सुविधाएं और बुनियादी ढाँचे जैसी जरुरी सुविधाए तैयार की जाएंगी। पीएम ने कहा कि स्मार्ट शहरों का चयन सार्वजनिक मतदान की एक प्रतियोगिता द्वारा किया जाएगा। वर्तमान में एएमआरयूटी के 500 शहरों की पहचान की जा रही है। अगले छह वर्षों में भारत सरकार ने इन तीन योजनाओं पर लगभग 400,000 करोड़ रुपये खर्च करने की प्रतिबद्धता की है। सरकार इन योजनाओं के लिए वित्तपोषण और सफलतापूर्वक चलाने के लिए सार्वजनिक निजी साझेदारी मॉडल के बारे में विचार कर रही होगी।

पीएमएवाई के लिए आवेदन कैसे करें?

यह योजना अभी-अभी प्रधानमंत्री द्वारा शुरू की जा रही है। कई राज्य सरकारों द्वारा मुख्य योजना के तहत कई आवास योजनाएं शुरू की जाएंगी। जब राज्य सरकारें योजनाओं का शुभारंभ करेंगी, तब आवेदन फॉर्म वांछित आवेदकों को उपलब्ध कराए जाएंगे।

प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के बारे में अधिक जानकारी के लिए कृपया www.mhupa.gov.in/pmay/index.htm पर लॉग ऑन करें।

प्रधानमंत्री आवास योजना आवेदन पत्र:

आप यहाँ से पीएमएवाई आवेदन पत्र डाउनलोड कर सकते हैं। http://mhupa.gov.in/writereaddata/survey_form_mar16_eng%242016Jun28171232.pdf

Read Pradhan Mantri Awas Yojana (PMAY) in English