Home / society / व्हाट्सएप – लोकप्रियता और अनैतिकता

व्हाट्सएप – लोकप्रियता और अनैतिकता

July 5, 2018


Please login to rate

व्हाट्सएप - लोकप्रियता और अनैतिककता

आज के युग में डिजिटल तकनीक व्हाट्सएप समाचार के लिए बहुत ही लोकप्रिय बन गया है। जबकि फेसबुक हमारे स्मार्टफोन की एक छोटी सी स्क्रीन पर पूरे विश्व के साथ जुड़ने में अहम भूमिका निभाता है लेकिन व्हाट्सएप धीरे-धीरे अधिक लोकप्रिय हो रहा है। एक समाचार रिपोर्ट के अनुसार, व्हाट्सएप जल्द ही एक नवीनतम समाचार कवरेज के लिए फेसबुक का स्थान ले लेगा। आप युवा हों या वृद्ध, इसके माध्यम से उन लोगों के पास आ जाएंगे जो आज के युग में व्हाट्सएप का उपयोग कर रहे हैं। भारत में दिन-प्रतिदिन व्हाट्सएप के उपयोगकर्ताओं की संख्या बढ़ रही है। हालांकि शुरू में यह मित्रों और निकटवर्ती लोगों के लिए मात्र मैसेजिंग ऐप था लेकिन धीरे-धीरे यह एक समाचार का केंद्र बन गया है। ऐप के मुफ्त उपयोग ने इसे और अधिक लोकप्रिय बना दिया है। बड़ा सवाल यह है कि व्हाट्सएप किस हद तक विश्वसनीय है? हम कैसे सुनिश्चित कर सकते हैं कि व्हाट्सएप पर समाचार हमेशा सही होते हैं? वास्तव में, व्हाट्सएप पर झूठी खबरों के प्रचार के कई उदाहरण हैं।

व्हाट्सएप पर एक गलत समाचार ने झारखंड़ में मचा दी थी तबाही

हाल ही में व्हाट्सएप पर एक संदेश झारखंड़ राज्य में चारों ओर फैल गया जिसमें गाँव वालों को एक गलत संदेश के माध्यम से यह बताया गया है कि काले कपड़े पहने हुए एक समूह है जो बच्चों का अपहरण कर रहा है। इस संदेश को सही माना जा रहा है क्योंकि इसमें विकृत बच्चों की तस्वीरें थीं, इसे एक से दूसरे व्हाट्सएप समूहों में भेजा गया था और आखिरकार इस संदेश ने झारखंड के ग्रामीणों को बहुत प्रभावित किया, जिसमें मुख्य रूप से गरीब ग्रामीण जनजातियों के लोग किसान और मजदूर शामिल थे। संदेश अंततः आतंक और बाहरी लोगों के संदेह का कारण बन गया। खबर इतनी तेजी से फैली कि जल्द ही गाँव में किसी भी नए चेहरे को देखकर लोग उस पर हमला करने लगे। वास्तव में, यह चार मुस्लिम व्यापारिक सहयोगियों द्वारा फैलाई गई खबर थी लेकिन व्हाट्सएप के इस संदेश को तीन गुप्ता भाइयों पर संदेह करते हुए, भीड़ ने इन्हें निर्दयता से मार दिया था। पुलिस ने हस्तक्षेप किया लेकिन कोई मदद नहीं मिली। लोग एक-दूसरे को भड़काने के लिए प्रेरित कर रहे थे इसलिए भीड़ के हमले उग्र होते गए।

व्हाट्सएप पर अन्य विवादित समाचार

  • 4 जून 2014 नरेंद्र मोदी को भारत के प्रधानमंत्री बनने के एक सप्ताह बाद, 24 वर्षीय मोहसिन सादिक शेख, जो आईटी प्रोफेशनल कोर्स करके अपने घर पुणे वापस लौट रहे थे तभी एक कट्टरपंथी हिंदू संगठन के सदस्यों द्वारा उन्हें मार दिया गया था। इस तथ्य के कारण कि उनके दो प्रतीक शिवाजी और बाल ठाकरे की अपमानजनक तस्वीरों को व्हाट्सएप के माध्यम से भेजा गया था। मोहसिन सादिक शेख को उनकी इस गलती के लिए नहीं बल्कि इसलिए मार दिया गया क्योंकि वह मुस्लिम समुदाय के थे।
  • हम तक ऐसी नकली सूचनाएं भी आती हैं जैसे एक लोकप्रिय आम के पेय में एचआईवी पॉजिटिव रक्त मिला हुआ है।
  • हम लोग 2000 के नोट में एक चिप होने की हाल ही की अफवाह को कैसे भूल सकते हैं?
  • वहाँ एक और लोकप्रिय व्हाट्सएप संदेश था जिसने लेखक अरुंधति रॉय को भारतीय राजनीति के बारे में उनके महत्वपूर्ण लेखन के लिए दोषी ठहराया, क्योंकि वह एक ईसाई हैं और वह अपने पूरे नाम सुजन्ना अरुंधती रॉय का प्रयोग नहीं कर रही थीं।

व्हाट्सएप की लोकप्रियता और इसकी कमियाँ

यह मोबाइल मैसेजिंग एप्लिकेशन बिल्कुल मुफ्त है, उपयोग करने में सरल है और शुरू से अंत तक शब्दों को एन्क्रिप्ट कर सकते हैं। भारत के शहरी इलाकों में लगभग 180 मिलियन इंटरनेट उपयोगकर्ता व्हाट्सएप का इस्तेमाल कर रहे हैं। यहाँ तक कि व्हाट्सएप के मामले में ग्रामीण भी पीछे नहीं हैं। लगभग 200 मिलियन व्हाट्सएप उपयोगकर्ता हमारे देश से हैं, जिससे यह ऐप की सबसे बड़ी बाजार बनती है। भारत में नए साल की पूर्व संध्या पर, व्हाट्सएप पर 14 अरब संदेशों का आदान-प्रदान किया गया था। वीडियो-कॉलिंग सुविधा के साथ, व्हाट्सएप के उपयोग में और वृद्धि हुई है। मोदी सरकार के तीन साल के बाद, व्हाट्सएप संदेशों में एक विशिष्ट वृद्धि हुई है। लोगों के बीच असाम्यता बनाने के लिए विभिन्न समूहों द्वारा मोदी का समर्थन किया जा रहा है या मोदी का विरोध किया जा रहा है। सांप्रदायिक उत्थान  के साथ राष्ट्रवादी क्रोध भारत के व्हाट्सएप संदेशों की दुनिया पर हावी है। गलत सूचना का लगभग 80% दक्षिणपंथी समूहों से आता है और यह जंगल की आग की तरह फैलता है। अल्पसंख्यकों और असंतुष्टों के खिलाफ पूर्वाग्रह एवं हिंसा में वृद्धि करने के लिए, इस तरह के संदेश भी बढ़ रहे हैं। व्हाट्सएप को पूर्वाग्रह के एक दूत के रूप में अधिक बढ़ावा दिया गया है, इसमें अधिक से अधिक व्यक्तियों को जोड़ा गया है। व्हाट्सएप के माध्यम से अफवाहें फैल जाने के बाद, अब तक देश में अपराधों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है। लेकिन, ज्यादातर मामलों में देश भर में कई बड़ी घटनाओं की सूचना व्हाट्सएप संदेशों के कारण प्राप्त हुई है। दिन के अंत में, गरीब और असमर्थ अल्पसंख्यक आभासी तथा वास्तविक जीवन के क्रोध के शिकार बन जाते हैं।