Home / / कन्या भ्रूण हत्या बंद करो – बेटी बचाओ!

कन्या भ्रूण हत्या बंद करो – बेटी बचाओ!

June 24, 2017


Please login to rate

female-feoticideस्वतंत्रता के छह दशकों बाद भारत के विज्ञान, प्रौद्योगिकी और अन्य क्षेत्रों में तेजी से प्रगति के बाबजूद, भारत को हम जिस रूप में देखते हैं, वह अब भी ऐसा नहीं है जिसे विशेष रूप से न्यायपूर्ण लिंग के इलाज के संदर्भ में सराहा जा सके। भारत में लड़कियों के प्रति भेदभाव, माता-पिता के द्वारा लड़कियों की अनदेखी, अवैध गर्भपात और शिशु-हत्या सबसे स्पष्ट उदाहरण है। स्त्री से भेदभाव की प्रथा हमारे देश में प्रचलित है जो अपराध है। स्त्रियाँ भारतीय समाज का एक हिस्सा हैं, जो अपने विचारों में उदार होने के लिए अपने जीवन-स्तर का सबसे बेहतर प्रदर्शन कर रही हैं, हालांकि पश्चिमी संस्कृति अनुकरणीय है। दूसरी ओर समाज का एक और बड़ा हिस्सा, जो वास्तव में इनको अभी भी रूढ़िवादी दृष्टिकोण और विचारों के चंगुल से जकड़े हुए है।

कन्या भ्रूण हत्या एक ऐसी गंभीर सामाजिक समस्या है जो हमारे समाज के तथाकथित “पारंपरिक विचारों” से उत्पन्न होती है। कन्या भ्रूण का अवैध गर्भपात ससुराल, पति या स्त्री के माता-पिता या परिवार के लोगों के दबाव की वजह से किया जाता है और जिसका मुख्य कारण बेटों की प्राथमिकता होती है। लड़कियों को बोझ, गरीबी, निरक्षरता और महिलाओं के खिलाफ सामाजिक भेदभाव का कारण माना जाता है।

भारत में कन्या भ्रूण हत्या के परिणाम

देश के समग्र विकास और उन्नति में स्त्री भ्रूण हत्या का गंभीर प्रभाव पड़ता है। भारत में कन्या भ्रूण हत्या के प्रभावों की चर्चा नीचे की गई है

लिंग अनुपात मे कमी: 2011 की जनगणना के अनुसार, भारत में बाल लिंग अनुपात 1000 पुरुषों पर 919 स्त्रियाँ हैं जो पिछले दशक में 1000 पुरुषों पर 927 स्त्रिओं की गिरावट आई थी। भारत में हरियाणा सबसे अमीर राज्यों में से एक माना जाता है क्योंकि यह राज्य कम लिंग अनुपात के कारण सर्वोच्च स्थान पर है। इसके बाद अन्य प्रमुख राज्य पंजाब, दिल्ली, गुजरात, महाराष्ट्र, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, उत्तर प्रदेश आदि हैं। पूर्वोत्तर भारत और दक्षिण भारत के कुछ हिस्सों को छोड़कर, भारत के लगभग सभी राज्यों के लिंगानुपात में गिरावट को देखा जा सकता  है। 1991 से भारत के 80% से अधिक जिलों में लिंग अनुपात कम हो रहा है। इसके हिसाब से 2022 तक अगली जनगणना निश्चित रूप से पूरे देश में लिंग अनुपात की बड़ी कमी दिखाएगी। यह बताते हुए शर्म आ रही है कि भारत में अवैध भ्रूण लिंग निर्धारण और लिंग चयनात्मक गर्भपात को 1000 करोड़ रुपए के उद्योग में विकसित किया गया है।

एक लड़की को जन्म से पहले या जन्म के बाद मारने पर भी लिंग अनुपात पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है और यह कार्य आगे की सामाजिक बुराइयों को बढ़ाने में मदद करता है। लिंग अनुपात में गिरावट का मुख्य कारण स्त्री भ्रूण हत्या और समाज के अन्य नकारात्मक परिणाम हैं।

शादी के लिए लड़कियों की कमी: “हरियाणा के एक ट्रक चालक बलजीत सिंह ने अपने राज्य की लड़की से अपनी शादी करने की उम्मीद छोड़ दी थी। बलजीत सिंह की आयु 30 वर्ष थी। आखिरकार उन्होने असम के मुस्लिम समुदाय की अपने से आधी आयु वाली एक युवा लड़की से शादी कर ली थी।”

रेड क्रॉस सोसाइटी की एक हालिया रिपोर्ट से पता चला है कि लड़कियों की कमी के कारण पंजाब और हरियाणा में कई स्नातक लड़के विवाह योग्य आयु को पार कर चुके हैं।

हरियाणा के योग्य जाट लड़कों ने अपनी “एकल” जिंदगी को “विवाहित” में बदलने के लिए अपने घर से काफी दूर केरल जैसे राज्यों से लड़कियों की माँग कर रहे हैं।

ये सिर्फ कुछ उदाहरण हैं। कम स्त्रियों के साथ, “भारतीय विवाह बाजार” पर ध्यान और दिलचस्प है। कई पुरुष झारखंड, बिहार, पश्चिम बंगाल या मध्य प्रदेश जैसे अन्य राज्यों की लड़कियों से शादी करने के लिए बड़ी रकम का भुगतान करने को तैयार हैं। इसका नतीजा यह होता है कि जब लड़कियों के माता-पिता लाभान्वित होते हैं तो लड़कियों को अपनी संस्कृति, पोशाक, भाषा और भोजन की आदतों के साथ समझौता करना पड़ता है।

तस्करी और वेश्यावृत्ति: भारी मात्रा में लड़कियों का अपहरण और चोरी हो रही है। उन्हें अलग-अलग कीमतों पर बार-बार बेचा जाता है। आखिरकार, वे कुछ हद तक वेश्यापन को समाप्त करने में मदद करते हैं।

बाल विवाहों की बढ़ती संख्या: गरीबी क्षेत्र या गरीबी से पीड़ित परिवारों की कई लड़कियों को 18 साल से पहले परिवार का बोझ कम करने के लिए शादी कर रहे हैं। बाल विवाह की संख्या बढ़ रही है। लड़कियों को अपने से दोगुनी उम्र वाले लड़कों के साथ शादी करनी पड़ती है क्योंकि उन्हें अधिक उम्र वाले लड़कों के साथ शादी करने के लिए मजबूर किया जाता है।

मातृक मृत्यु और स्त्रिओं की बीमारियों में वृद्धि: गर्भपात या गर्भ में एक भ्रूण की हत्या, एक स्त्री के स्वास्थ्य को कमजोर कर देती है। कुछ मामलों में स्त्रिओं को कई बार गर्भपात करवाना पड़ता है। जिसका परिणाम यह है कि मातृक मृत्यु की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है। जिन स्त्रियों का गर्भपात करवाया जाता है उन्हें संक्रमण और बीमारी जैसे कारणों का सामना करना पड़ता है।

बहुपतित्व में वृद्धि: कुछ साल पहले एक युवा दुल्हन जिसका नाम मुन्नी यूपी के बागपत गाँव में आई थी। उसके दो अविवाहित देवरों ने उससे यौन सम्बन्ध बनाने के लिए उसे मजबूर किया और उसके बाद उसे तीन प्यारे बच्चे भी हुए। आज वह अपने पति और देवरों के 3 बेटों की माँ है। मुन्नी अभी भी “अपनी शादी से खुश नहीं” है, लेकिन उसने कहीं भी कोई शिकायत दर्ज नहीं की है।

भारत में ऐसी कई घटनाएं बढ़ रही हैं। भारत के ज्यादातर गाँवों की स्त्रियों द्वारा भ्रूण हत्या के कार्य किए जाते हैं और एक पत्नी कई अविवाहित देवरों के साथ रहती है।

निष्कर्ष

विडंबना यह है कि एक ऐसे देशो में कन्या भ्रूण हत्या अधिक हो रही है जहाँ लोग देवी के विभिन्न रूपों की पूजा करते हैं और जहाँ स्त्रियों को माँ लक्ष्मी के अवतार के रूप में माना जाता है एवं जहाँ युवा लड़कियों की पूजा की जाती है, लोग आशीर्वाद लेने के लिए कन्याओं के पैरों पर अपना सिर झुकाते हैं। फिर भी, लड़कियों की जानबूझकर हत्या की जा रही है। हमारे समाज में कुछ इस तरह के दोहरे मानक हैं। शिक्षा, स्वास्थ्य और सशक्तिकरण के अधिकार हर भारतीय स्त्रियों के मौलिक अधिकार हैं। स्त्री भेदभाव का भयानक अवैध कारोबार को रोकने के लिए कड़े कानूनों और परिवर्तनों को बनाना होगा। बेहतर कल के लिए बेटियों को बचाओ!!!