Home / / भारत का स्वर्ण युग

भारत का स्वर्ण युग

June 22, 2017


Please login to rate

भारतीय इतिहास के दो चरणों को वास्तव में ‘भारत का स्वर्ण युग ‘ के रूप में परिभाषित किया जा सकता है, क्योंकि उस समय देश में शांति, विकास और समृद्धि थी। गुप्त साम्राज्य के समय प्राचीन भारत की तीसरी शताब्दी और 6 वीं शताब्दी सीई के मध्य का भारत का स्वर्ण युग था और दूसरा दक्षिण भारत में चोल वंश के समय के मध्ययुगीन भारत की 10 वीं और 11 वीं शताब्दी सीई के मध्य का युग भारत का स्वर्ण युग था। भारत में गुप्त साम्राज्य के शासन के समय गणित, विज्ञान, खगोल विज्ञान और धर्म आदि जैसे कई क्षेत्रों का विकास हुआ जबकि चोल वंश के समय वास्तुकला, तमिल साहित्य और काँस्य जैसे कार्यों में भी बहुत विकास हुआ था।

गुप्त काल को महाराजा श्री-गुप्त ने स्थापित किया और लगभग पूरे देश पर शासन भी किया था। गुप्त युग के समय में ही दशमलव प्रणाली, शून्य और शतरंज की अवधारणा अस्तित्व में आई थी। इस स्वर्ण युग के समय कई प्रसिद्ध विद्वानों जैसे आर्यभट्ट, कालिदास और वारहमिहिर ने कई क्षेत्रों में अपना बहुत बड़ा योगदान दिया था। इस युग के गुप्त दार्शनिकों ने यह भी पता लगाया था कि पृथ्वी चपटी नहीं बल्कि गोल है और यह अपनी धुरी पर स्वयं घूर्णन करती है जिसके फलस्वरूप चंद्र ग्रहण होता है। इस युग में ही गुरुत्वाकर्षण, ग्रहों और सौर मंडल के बारे में खोज की गई थी। इस युग में न केवल विज्ञान का बल्कि साहित्य का भी विकास हुआ, गुप्त साम्राज्य के समय में प्रसिद्ध पंचतंत्र की कहानियाँ, अत्यंत लोकप्रिय कामसूत्र, रामायण और महाभारत जैसे महाकाव्यों को भी लिखा गया था। गुप्त साम्राज्य के शासकों द्वारा शांति और समृद्धि के कारण ही भारत के इन सभी वैज्ञानिकों और कलाकारों ने विकास का प्रदर्शन किया था।

गुप्त साम्राज्य के लगभग सभी शासक जो बहुत मजबूत नेता, व्यवस्थापक और समर्थ व्यापारी थे लेकिन इसके बाद भी वे तानाशाह नहीं थे। लगभग सभी पड़ोसी देशों और क्षेत्रों जैसे बर्मा, मलय द्वीप समूहों, श्रीलंका और इंडो-चीन जैसे देशों के साथ मजबूत व्यापार संबंध बनाने में सक्षम रहे थे। जिसके कारण उनके शासन का भी विस्तार हुआ था। गुप्त साम्राज्य के प्रमुख शासक चंद्रगुप्त (319 से 335 ईस्वी), समुद्रगुप्त (335 से 375 ईस्वी), चंद्रगुप्त द्वितीय (375 से 414 ईस्वी), कुमारगुप्त प्रथम (415 से 455 ईस्वी), स्कंदगुप्त (455 से 467 ईस्वी) इन लोगों ने भारत को स्वर्ण युग बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया था।

शानदार वास्तुकला इस साम्राज्य का एक अहम हिस्सा थी। गुप्त साम्राज्य में पाई जाने वाली अधिकांश मूर्तियाँ धर्म और आध्यात्मिक क्षेत्र से संबंधित थीं। जिसका अंदाजा मथुरा में खड़ी बुद्ध की मूर्ति और सारनाथ में बैठी हुई बुद्ध की मूर्ति से लगाया जा सकता है। अजंता में चट्टानों से कटकर बनी मठों की प्रसिद्ध गुफाएं, गुप्त साम्राज्य का हिस्सा थीं। इस युग में बादामी और बाघ प्रसिद्ध चित्रकारी थी। मूल रूप से मथुरा में विकसित गंधारा स्कूल ऑफ आर्ट की शैली को इस अवधि में काफी प्रमुखता दी जा रही है।

इस युग से पहले मंदिर जिस तरीके से बनाए गए थे बाद में उसमें बहुत बदलाव किए गए थे। मंदिरों में देवताओं की मूर्तियों की स्थापना गुप्त युग में शुरु की गई थी। भारत के स्वर्ण युग के समय, मंदिर बड़े थे और पूरी तरह से नक्काशीदार थे। आक्रमणकारियों ने उस युग के समय बनाए गए अधिकांश मंदिरों को नष्ट कर दिया था।

दक्षिण भारत के चोलों ने भी भारतीय इतिहास में और भारत के स्वर्ण युग में योगदान प्रदान किया। उन्होंने कई मंदिरों का निर्माण किया था और ये मंदिर अभी भी भारत और भारतीय इतिहास की एक समृद्ध विरासत को दर्शाते हैं। चोल बहुत अनुशासनबद्ध नौकरशाह थे और जिन्होंने भारत को एक केंद्रीकृत सरकार की संकल्पना दी थी।

समाज की ये सभी घटनाएं ‘भारत के स्वर्ण युग’ के एक उपन्यास के लिए पर्याप्त थीं।