Home / Travel / मस्तिष्क से लेकर काला जादू तक का प्रदर्शन करने वाले भारत के लोकप्रिय असामान्य संग्रहालय

मस्तिष्क से लेकर काला जादू तक का प्रदर्शन करने वाले भारत के लोकप्रिय असामान्य संग्रहालय

January 25, 2019


Please login to rate

भारत में असामान्य संग्रहालय

क्या आपको असामान्य और विचित्र जीवन से प्यार है? जब आपके पास समूचा म्यूजियम हो तो आपको रद्दी चीजों के साथ संतुष्ट होने की कोई आवश्यकता नहीं है। अपरंपरागत और असामान्य थीम इन चीजों के मूल लक्षण हैं। अपने हाथों में एक खोपड़ी को पकड़कर तंत्र-मंत्र के बारे में सीखने के लिए आप बिना कुछ तय करे सभी अनोखी गतिविधियों को कर रहे होंगे। इसलिए, समय बर्बाद न करें, भारत के किसी भी या सभी असामान्य संग्रहालयों की यात्रा करने की योजना बनाएं। यह आपके जीवन का एक अनोखा अनुभव होगा।

भारत में असामान्य संग्रहालय का चित्रण करने वाला मानचित्र

1. ब्रेन म्यूजिम, बैंगलुरू

क्या कभी आपको अपने दिमाग को बेहतर तरीके से जानने, उसे छूने, महसूस करने की इच्छा हुई है? आप की ये सारी क्रूर इच्छाएँ यहाँ सच हो सकती हैं। यहां पर प्रदर्शन के लिए -86 डिग्री सेल्सियस के अति-ठंडे तापमान पर जार में सुरक्षित रूप से संरक्षित 300 से अधिक ब्रेन्स हैं। और उन लोगों के लिए जो सड़क दुर्घटनाओं में मारे गए हैं, के दिमाग से न्यूरोडीजेनेरेटिव लक्षणों के साथ सिज़ोफ्रेनिया तक विविधता है (बेशक, उनका दिमाग उनके परिवारों से सहमति के बाद लिया जाता है), हर किसी का दिमाग यहाँ है। और, आप भी दान के रूप में मस्तिष्क के इस गहन अनुसंधान में योगदान कर सकते हैं ! इस बैंक का उद्देश्य केवल तंत्रिका विज्ञान के बारे में जागरूकता फैलाना है। तो, विज्ञान के लिए इसमें शामिल हो जाइए।

2. भारतीय संग्रहालय, कोलकाता

क्या आपको अच्छे पुराने समय से (पुराने से हमारा मतलब वास्तव में पुराना है, और यहां तक कि प्रागैतिहासिक भी) प्यार है? यदि हाँ, तो आप निश्चित रूप से इस म्यूजियम की गलियों में भ्रमण करना पसंद करेंगे। बुद्ध की राख से लेकर 4000 साल पुरानी मिस्र की ममी, ‘कैसे यह सब शुरू हुआ’ और ’उस समय में वे कैसे करते थे’ यह देखने के लिए उदाहरण के तौर पर सब कुछ यहां मौजूद हैं। इस म्यूजियम में रखी सभी प्राचीन वस्तुएं, न केवल भारत में बल्कि एशिया-प्रशांत में भी सभी म्यूजियमों में सबसे पुरानी हैं। यहां का पुरातत्व दौरा आपको प्राचीन सिक्कों, तारकीय कवच, कलात्मक मुगल चित्रों और यहां तक कि अलौकिक उल्का संग्रह की विभिन्न गलियों के माध्यम से परिचय कराएगा। आप यहाँ आकर यहां के वातावरण में खो जाते हैं और यहां की सुन्दरता को देखकर आश्चर्यचकित हो जाते हैं। क्योंकि यह सब आपके लिए बेशकीमती है।

3. शंकर अन्तर्राष्ट्रीय गुड़िया संग्रहालय, नई दिल्ली

राजधानी का अपना स्वयं का संग्रहालय दुनिया भर से अलग-अलग प्रकार की 6,000 से अधिक गुड़ियों के संग्रह के साथ बहुत ही प्रसिद्ध है। इसके साथ ही, सबसे रोमांचक तथ्य यह है कि ये भारत में नहीं निर्मित का गईं हैं, बल्कि 80 से अधिक देशों से एकत्र किए गए हैं। एक मिनट के लि आपको लगेगा कि आप जापानी गीशा, शेक्सपियरियन युग से तैयार अंग्रेजी गुड़िया का एक मॉडल, का अति सूक्ष्म रूप देख रहे हैं। आप ब्रिटेन की रानी के संग्रह प्रतिकृति गुड़िया, स्पेन के फ्लेमेंको नर्तकियों, थाईलैंड की महिलाओं के ऑर्केस्ट्रा और हंगरी के मेयोले डांस में बहने वाले आंकड़ों के एक समूह के माध्यम से एक स्थान पर लाए गए पूरे सांस्कृतिक पोपरी का आनंद ले सकते हैं। आप भरोसा नहीं कर सकते लेकिन इसे अपने आप में एक आश्चर्यजनक वंडरलैंड के रूप में देख सकते हैं। अन्त में, यहां पर ‘बीमार गुड़ियों’ के लिए एक क्लीनिक भी है। यदि कोई गुड़िया ’टूट-फूट’ जाती है तो उसे उसे दुरुस्त करने के लिए उसका उपचार किया जाता है !

निश्चित करें कि इस आश्चर्यजनक सैर से कहीं आप चूक न जाएं?

4. सुलभ इंटरनेशनल शौचालय संग्रहालय, नई दिल्ली

सबसे पहले, केवल शौचालय देखने के लिए एक यात्रा की योजना बनाना, आपको थोड़ा अजीब सा लग सकता है। लेकिन अंत में, यह आपके लिए ज्ञानवर्धक हो सकता है। यहां के मनोरंजक स्थानों के बारे में न भूलें ! संग्रहालय भी उसी मार्ग में है। आपको शौचालय पर सभी प्रकार के चुटकुले और हास्य कार्टून का एक भाग देखने को मिलेगा। आप यहाँ शौचालय पर बनी कविता भी पढ़ सकते हैं।

और जब बात आती है वास्तविक शौचालयों के देखने की, तो यह कितना हास्यास्पद सा लगता है, लेकिन आपके पास सप्ताह का सबसे अच्छा दिन हो सकता है। रोमन सम्राटों द्वारा उपयोग किए जाने वाले सोने और चांदी के शौचालयों से लेकर आज के परिष्कृत शौचालयों तक सभी को दिखाया गया है। वहाँ भी अलौकिक और रचनात्मक शौचालय हैं जो अलमारी में दबी किताबों की तरह गोपनीय हैं और आप अलंकृत विक्टोरियन शौचालय सीटें भी देख सकते हैं। पूरे संग्रहालय में 2500 ईसा पूर्व से लेकर आज तक के दुनिया भर में शौचालय और उनके विकास का इतिहास दिखाया गया है। आप यह देखकर चकित होंगे कि पहले के समय में शौचालय के शिष्टाचार और उससे संबंधित सामाजिक रीति-रिवाज क्या थे। इस संग्रहालय में बीते युग के टॉयलेटरीज़ जैसे टॉयलेट, टॉयलेट फ़र्नीचर, बिडेट्स, प्राइवेटिज, वॉटर क्लोज़ेट्स और चैंबर पॉट्स को देखने में आपका पूरा दिन लग सकता है। शौचालय से भरे कमरों में समय बिताना बुरा नहीं है। कोशिश करें।

5. वेचार बर्तन संग्रहालय, अहमदाबाद

यह शानदार संग्रहालय भारतीय शिल्पकारों की अनूठी कलात्मक कौशल और सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित करने के उनके प्रयास का एक हिस्सा था। इस वेचार संग्रहालय में 1,000 साल पुराने जग से लेकर आधुनिक कांच के बर्तन, कांसे और पीतल से लेकर जर्मन सिल्वर तक 4,000 से अधिक हर प्रकार की धातु शामिल है। इनको देखने से यह भी पता चलता है कि ये बर्तन इतिहास की विभिन्न अवधियों में मनुष्य की बदलती जरूरतों और पर्यावरण के परिणामस्वरूप कैसे बनाए गए।

5. काला जादू और जादू-टोना संग्रहालय मायोंग, गुवाहाटी

यदि आप मायोंग गाँव के बारे में कुछ भी जानते हैं, तो आप इस बात से सहमत होंगे कि यहाँ काले जादू के संग्रहालय से बेहतर कोई स्थान नहीं हो सकता है। मायोंग को ही जादू टोना और काले जादू की उत्पत्ति भूमि माना जाता है। और, स्थानीय लोगों को यहां की अलौकिक गतिविधियों में सक्रिय रूप से शामिल माना जाता है (जैसे कि आपको संग्रहालय में इसका लाइव डेमो दिया जा सकता है!) और यहां तक कि ’गायब वस्तुओं को ढूंढना’। मत पूछो कैसे।

पूरा शहर लोगों को हवा में गायब होने की अफवाहों से भरा पड़ा है, इन्सान जानवरों में बदल रहे है और अन्य डरावने किस्से हैं। संग्रहालय में प्रवेश करें और आपको काले जादू और तांत्रिक पांडुलिपियों के लिखित खाते दिखाई देंगे। हमारा विश्वास करो, आपका अब तक की पढ़ाई यहां काम नही सबसे आएगी। इसके अलावा, यहां आपको खोपड़ियां, टोने-टोटके के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले विशेष उपकरण और हस्तनिर्मित गुड़िया मिलेंगी।  मनोगत के लिए आपकी प्यास कभी भी पूरी तरह से संतुष्ट नहीं हो सकती है जब तक कि आप यहां नहीं आते हैं और इसे अपने लिए देखें कि वास्तविकता में जादू कैसे होता है!

तो, ये कई अलौकिक, विचित्र, असामान्य संग्रहालय थे। आपको सबसे ज़्यादा कौन सा पसंद आया? हमें नीचे टिप्पणी अनुभाग में बताएं।

Summary
Article Name
मस्तिष्क से लेकर काला जादू तक का प्रदर्शन करने वाले भारत के लोकप्रिय असामान्य संग्रहालय
Author
Description
भारत में कई असामान्य संग्रहालय हैं। मस्तिष्क से लेकर काले जादू तक, यहां पर सबकुछ देखा जा सकता है।