Home / / केंद्रीय मंत्रिमंडल ने एनआरआई को दी प्रॉक्सी वोट अधिकार की मंजूरी

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने एनआरआई को दी प्रॉक्सी वोट अधिकार की मंजूरी

August 4, 2017


Please login to rate

NRIs_hindi copyभारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। हमारी सरकार की स्थापना और प्रशासन की व्यवस्था सार्वभौमिक वयस्क मताधिकार पर निर्भर है। भारत निर्वाचन आयोग के अनुसार, 2014 के आम चुनावों में 814.5 मिलियन से अधिक लोगों को वोट देने के योग्य माना गया। हालांकि कई लोग ऐसे भी हैं जो नियमित रूप से अपने वोट का उपयोग नहीं कर पाते हैं। सेवा कर्मी, भारतीय सशस्त्र बलों की सेवा के सदस्य – उन लोगों के सबसे बड़े समूहों में से एक हैं, जो देश के सुदूर स्थानों में अपनी पोस्टिंग की वजह से अपने वोट का निक्षेपण नही कर पाते थे। अपने वोटिंग अधिकारों को सुरक्षित करने के लिए 2003 में अनुपस्थित मतदान नियमों में संशोधन किया गया। भारतीय प्रवासी समुदाय जो अब तक लोगों का सबसे बड़ा समुदाय है, वह नियमित रूप से अपने वोटों का निक्षेपण करने में असमर्थ है। अनिवासी भारतीय (एनआरआई) जो भारतीय नागरिकता को बरकरार रखने वाले लोकतांत्रिक प्रक्रिया में भाग लेने की अपनी असमर्थता की अक्सर शिकायत करते हैं। हालांकि हाल ही में, कैबिनेट द्वारा किए गए एक निर्णय से इस रूप को अच्छी तरह बदला जा सकता है।

कैबिनेट के निर्णय से एनआरआई को मिल सकती है प्रॉक्सी वोट की मंजूरी

2 अगस्त 2017 दिन बुधवार को, केंद्रीय मंत्रिमंडल ने विदेशों में रहने वाले भारतीय समुदाय को प्रॉक्सी (प्रतिनिधि के रूप में) मतदान अधिकार देने का प्रस्ताव मंजूर किया है। इस मंजूरी से लोगों के प्रतिनिधित्व अधिनियम के संशोधन द्वारा अनुपालन की संभावना है। संशोधित कानून एनआरआई समुदाय के लिए अनुपस्थित मतदान अधिकारों का विस्तार करेगा। प्रत्येक एनआरआई (भारतीय नागरिकता के साथ) को अपना वोट देने के लिए एक प्रॉक्सी (प्रतिनिधि) चुनने की अनुमति दी जाएगी। जैसा कि एनआरआई वोटर्स में वर्णित है कि प्रॉक्सी का यह पद एक एकल चुनाव के लिए मान्य होगा। प्रॉक्सी को निर्वाचन क्षेत्र में पंजीकृत मतदाता को वोट देने की आवश्यकता होगी।

केन्द्रीय मंत्रिमंडल द्वारा पारित किया गया यह प्रस्ताव, वर्ष 2015 में चुनाव आयोग की एक विशेषज्ञ समिति द्वारा अध्ययन का नतीजा था। समिति ने सुझाव दिया था कि कानून मंत्रालय के दिशा-निर्देशों में संशोधन और चुनाव प्रक्रिया से संबंधित कानून तथा अनिवासी भारतीयों के लिए प्रॉक्सी मतदान कानूनी ढ़ाँचे के अन्तर्गत आता है।

2016 को, संयुक्त राष्ट्र ने घोषणा की, कि भारत के प्रवासी (लगभग 16 लाख होने का अनुमान) दुनिया में सबसे अधिक थे। 2014 के चुनाव के रिकॉर्ड से पता चलता है कि केवल 1,000 से 12,000 अनिवासी भारतीय निर्वाचन क्षेत्रों में अपने मतदान के अधिकारों का इस्तेमाल करने के लिए वापस आते हैं।

कैबिनेट ने अप्रवासी भारतीयों के लिए यह व्यवस्था शुरू करने के 2 तरीके अपनाए हैं – इनमें से पहला तरीका विभिन्न देशों में स्थित भारतीय दूतावास में जाकर वोट करेंगे, इसके लिए बैलेट पेपर इलैक्ट्रॉनिक तरीके से भेजे जा सकते हैं। जबकि दूसरा तरीका भारत में पहले से सरकारी कर्मचारियों द्वारा किए जाने वाले मतदान जैसा हो सकता है। बाद में, यह तर्क अधिक सुविधाजनक लग रहा था।

भारत में प्रॉक्सी द्वारा मतदान

प्रॉक्सी द्वारा मतदान भारत के लिए नया नहीं है, लेकिन अभी तक इसका प्रयोग केवल सैनिकों के लिए किया जाता है। भारतीय कानून और कई प्रशासनिक प्रक्रियाएं, ब्रिटिश प्रणाली से प्रेरित हैं। 22 सितंबर 2003 को, एक बार फिर से भारत ने अनुपस्थित सैनिकों के मतदान के लिए, ब्रिटिश प्रणाली से प्रेरणा ग्रहण की और सेवा कर्मियों के लिए प्रॉक्सी वोटिंग सेवा की शुरुआत की।

इसकी शुरुआत के बाद से, एक सैनिक प्रतिनिध नामांकित कर सकता  है – एक पुरुष या महिला जो किसी निर्वाचन क्षेत्र में पंजीकृत है, अपने मत का प्रयोग कर सकता/सकती है। अनिवासी भारतीयों के लिए सुझाए गए प्रतिनिधि के अतिरिक्त ऐसे प्रतिनिधि स्थायी हो सकते हैं। यह प्रावधान दूरस्थ सीमा क्षेत्रों या उच्च ऊंचाई वाले क्षेत्रों में कार्यरत सैनिकों के लिए उपलब्ध है। सैनिक को फॉर्म 2 और फॉर्म 13 नामक दो फॉर्म भरने होंगे। फॉर्म 2 में पुरुष या महिला एक प्रतिनिधि नामित करता है और इसके बाद इसे यूनिट के कमांडिंग ऑफिसर (सीओ) को सौंपा जाता है, जो बदले में इसे सत्यापित करता है और इसके बाद जिला निर्वाचन अधिकारी को भेजा जाता है। फॉर्म 16 को प्रतिनिधि (प्रॉक्सी) के लिए भेजा जाता है जिसका उपयोग अनुपस्थित मत डालने के लिए किया जाता है। हालांकि प्रॉक्सी, प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट द्वारा प्रमाणित होता है।

सैनिक और उनके परिवार एक शांतिपूर्ण क्षेत्रों में जहाँ चुनाव आयोजित किए जा रहे हैं, स्थानीय स्तर पर अपना वोट दे सकते हैं। डाक मतपत्र द्वारा मतदान सेवारत सैनिकों के लिए भी उपलब्ध है।

कम्बरसोमे प्रॉक्सी वोटिंग फॉर्म और प्रक्रियाएं शामिल हैं। हालांकि, जटिल प्रॉक्सी वोटिंग फॉर्म और प्रणाली के कारण अधिकांश सैनिक अपने मतों का उपयोग नहीं करते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी निस्संदेह भारतीय प्रवासियों के लिए सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री रहे हैं। विदेशों में अपनी यात्राओं के दौरान उन्होंने विदेशी भारतीयों के साथ मिलकर लगातार काम किया है। भारतीय राजदूत के रूप में विदेशों में रह रहे भारतीयों का जिक्र करने से वे अनिवासी (अप्रवासी) भारतीयों के प्रिय बने हुए है। निश्चित रूप से प्रॉक्सी वोटिंग सुविधा का परिचय विदेशों में रहने वाले भारतीयों को देश और एनडीए के एक कदम करीब ले जाएगा।