Home / / चैंपियंस ट्राफी 2017 का आगाज

चैंपियंस ट्राफी 2017 का आगाज

June 2, 2017


Please login to rate

icc-champions-trophy-2017-hindi

आईसीसी विश्व कप के बाद, सबसे बड़ी क्रिकेट टूर्नामेंट चैंपियंस ट्राफी 2017 का आगाज , लंदन के ओवल में शुरू हो गई है। आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी जो एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन होता है, जिसका सबसे पहला मैच 1998 में दक्षिण अफ्रीका ने जीता था। कुछ लोग इसे मिनी विश्व कप के रूप में भी जानते हैं, इसका आयोजन लगभग हर दो वर्ष बाद किया जाता है, पिछली बार 2015 में आयोजित विश्व कप के प्रतिष्ठित कप पर आस्ट्रेलिया ने कब्जा किया, भारत जिसमें सेमीफाइनल तक खेला था।

2013 चैंपियंस ट्रॉफी पर भारत ने कब्जा किया, इसके अलावा भारत ने 2002 में भी श्रीलंका के साथ कप को साझा किया था। 2006 और 2009 में ट्रॉफी ऑस्ट्रेलिया ने जीती। दक्षिण-अफ्रीका, न्यूजीलैंड और वेस्टइंडीज ने 2000 और 2004 में क्रमशः ट्रॉफी जीती, इसके अलावा जो दुर्भाग्यवश 2017 चैंपियंस ट्रॉफी के लिए अर्हता प्राप्त करने में नाकाम रहे। इसलिए, यह देखना होगा कि क्या भारत मौजूदा चैंपियन है जो कप को फिर से हासिल करने में सफल हो पाएगा या नहीं।

भारत

टीम इंडिया ने 2013 में ट्रॉफी अपने नाम की थी, जिससे वह मौजूदा चैंपियन है इसलिए उस पर दबाव होगा। टीम का नेतृत्व ऊर्जावान विराट कोहली के नेतृत्व में किया जा रहा है और यह देखना चाहिए कि उनकी कप्तानी के दौरान भारत ने पिछले एक साल में कोई ओडीआई सीरीज नहीं गँवाई है। भारत ने इंग्लैंड, जिम्बाब्वे और न्यूजीलैंड पर जीत हासिल की है और इनमें से दो टीम 2017 में चैंपियंस ट्रॉफी का हिस्सा हैं। इसके अलावा, टीम की कमान सँभालने के बाद विराट कोहली, धौनी की तरह शांत बन गए है, वो काफी अनुभवी है और अपने दम पर मैच जीतने की क्षमता रखते हैं।

पाकिस्तान

वास्तव में पाकिस्तान की टीम के खेल को हमें देखना चाहिए। हालांकि, कई युवा खिलाड़ी टीम में शामिल हैं लेकिन पाकिस्तान के दो सबसे अनुभवी खिलाड़ी मोहम्मद हाफिज और शोएब मलिक हैं। दूसरे सबसे अनुभवी तेज गेंदबाज मोहम्मद अमीर और वहाब रियाज और शदाब खान हैं। हालांकि बल्लेबाजी अब प्रमुख नहीं रह गई है, लेकिन किसी को नही पता कि पाकिस्तान कब वापसी कर दे।

ऑस्ट्रेलिया

ऑस्ट्रेलिया पहले ही चैंपियंस ट्रॉफी दो बार जीत चुकी है और निश्चित रूप से उनको तीसरी जीत की तलाश होगी। ऑस्ट्रेलिया के पास एरोन फिंच, डेविड वार्नर, ग्लेन मैक्सवेल, और कप्तान स्टीव स्मिथ के रूप में एक मजबूत बल्लेबाजी लाइनअप मौजूद है। इसलिए ऑस्ट्रेलिया की जीत की भूख के कारण, भारत को निश्चित रूप से एक मजबूत प्रतिद्वंद्वी का सामना करना पडेगा।

दक्षिण-अफ्रीका

1998 में दक्षिण अफ्रीका ने उद्घाटन टूर्नामेंट जीता, उसके बाद टीम अपनी दूसरी जीत की प्रतीक्षा कर रही हैं। दक्षिण अफ्रीका निश्चित रूप से टैग ‘चोकर्स’ से छुटकारा पाने की तलाश में होगी। उनके पास हाशिम अमला और क्विंटन डी कॉक जैसे सलामी बल्लेबाजों की शानदार साझेदरी के साथ, इस बार सीरीज जीतने का बड़ा मौका है। जेपी डुमिनी, डेविड मिलर, फॉफ डु प्लेसिस और ए. बी. डिविलियर्स जैसे बल्लेबाज शामिल हैं। टीम के पास कंगीसो रबादा और लेग स्पिनर इमरान ताहिर जैसे गेंदबाज हैं जो बहुत ही घातक साबित हो सकते हैं।

इंग्लैण्ड़

इंग्लैंड ने एक भी टूर्नामेंट नहीं जीता है और जो उनके लिए खतरनाक साबित हो सकती है, क्योंकि टीम जीत के लिए उत्सुक है। इंग्लैंड के पास जीत का यह सुनहरा मौका क्योंकि उनके पास मजबूत बल्लेबाजी लाइनअप मौजूद है। जेसन रॉय और एलेक्स हेल्स एक विस्फोटक सलामी जोड़ी के रूप में जाने जाते हैं और इंग्लैंड को एक बडा स्कोर बनाने से रोकने के लिए, प्रत्येक टीम उन्हें आउट करना चाहती है। अन्य खिलाड़ी बेन स्टोक्स, जो वर्तमान में विश्व में सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडर हैं, इयोन मॉर्गन और जो रूट, जो कप्तान और उप-कप्तान हैं। इसके अलावा, इंग्लैंड टीम में एक संतुलित गेंदबाजी का आक्रमण मौजूद है, जो निश्चित रूप से विरोधियों के हालात को कठिन बना देगा।

न्यूजीलैंण्ड

न्यूजीलैंण्ड को चैंपियंस ट्रॉफी टूर्नामेंट में विजेता बने 17 साल हो गए हैं। टीम ने 2000 में टूर्नामेंट जीता था। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में, ब्लैक कैप्स वाले खिलाड़ी आमतौर पर कीवी कहे जाते हैं, अगर उनका बल्लेबाजी का शीर्ष क्रम चल जाता है, तो कोई भी उन्हें 2017 की चैंपियंस ट्रॉफी जीतने से रोक नही सकता। टीम के पास कुछ शीर्ष बल्लेबाजों के नाम शामिल हैं जिसमें विलियमसन जो कप्तान है और दुनिया के शीर्ष तीन बल्लेबाजों में से एक है। मार्टिन गुप्टिल और रॉस टेलर की बल्लेबाजी भी मजबूत पक्ष है, जबकि ट्रेंट बोल्ट, एडम मिल्ने, टिम साउथी और मिशेल मैक्लेनघन अपने विरोधियों को परेशान कर सकते हैं।

श्रीलंका

श्रीलंका ने भारत के साथ सह-चैंपियन के रूप में 2002 का एक टूर्नामेंट जीता था, इसलिए टीम निश्चित रूप से 2017 चैंपियनशिप पर नजर रखेगी। हालांकि, टीम अस्थिर मैदान पर खेलेगी और इसकी रैंकिंग 7 वें पायदान पर पहुंच गई है। हालांकि, एंजेलो मैथ्यूज की वापसी के साथ टीम का विश्वास उच्च शिखर पर है और लसिथ मलिंगा, जो हमेशा विकेटों के लिए भूखे रहे है। श्रीलंका की तरफ से कुसल परेरा और दिनेश चांदीमल बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं। नुवान कुलशेखरा तेज गेंदबाजी के लिए जाने जाते हैं। और यह दिलचस्प रहेगा कि विरोधियों के सामने वे कैसा प्रदर्शन करेंगे। इस बीच, टीम के ऑलराउंडर थिसारा परेरा पर भी काफी दरोमदार है।

बांग्लादेश

बांग्लादेश अब ऐसी कमजोर टीम नहीं रह गई हैं जिसे आसानी से हराया जा सके। वे निश्चित रूप से किसी भी टीम से मैच जीत सकते हैं और यदि नहीं, तो कुछ टीमों का खेल बिगाड सकते है। पिछले कुछ सालों में, बांग्लादेश ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में तेजी से वृद्धि की है और इसी  वजह से आज हर टीम उन्हे गंभीरता से ले रही है। चोट के कारण अनुपस्थित रहने के बाद, टीम में वापसी करने वाले मुस्तफिजुर रहमान टीम की गेंदबाजी को मजबूत करेंगे। महमदुल्लाह, तमीम इकबाल और मुशफिकुर रहीम की बल्लेबाजी प्रतिद्वंद्वियों के लिए सिरदर्द बनी हुई हैं।

तो 2017 चैंपियंस ट्रॉफी पर किसका होगा कब्जा? इसके लिए, आपको रोमांचक फाइनल देखने के लिए 18 जून तक का करना होगा इंतजार।

क्रिकेट से संबन्धित

भारतीय महिला क्रिकेट टीम

भारत में अधिक लोकप्रिय क्यों है क्रिकेट?