Home / Imo / जानिए करतारपुर कॉरिडोर के बारे में

जानिए करतारपुर कॉरिडोर के बारे में

November 27, 2018


Please login to rate

जानिए करतारपुर कॉरिडोर के बारे में

रावी नदी के पास स्थित करतारपुर साहिब, पंजाब (भारत) के गुरदासपुर में डेरा साहिब रेलवे स्‍टेशन से चार किलोमीटर दूर है। यह शानदार सफेद इमारत सिख समुदाय के सबसे पवित्र स्थलों में से एक है।

26 नवंबर 2018 को करतारपुर कॉरिडोर को चिन्हित करते हुए गुरदासपुर में नींव का पत्थर रखा गया। दो दिन बाद 28 नवंबर को, पाकिस्तान द्वारा सीमा के दूसरी तरफ नींव का पत्थर डालने को अंतिम रूप देने के लिए, निर्धारित किया गया है।

करतारपुर कॉरिडोर की वार्ता अब वर्षों से चल रही है, अंतिम घोषणाओं को भारत-पाक संबंधों के रूप में देखा जा रहा है। तो, यह सब क्या है?

क्यों इतना खास है करतारपुर साहिब?

पंजाब में डेरा बाबा नानक मंदिर से स्पष्ट दिखाई देने वाला करतारपुर साहिब का लगभग 500 वर्षों का समृद्ध इतिहास है। ऐसा कहा जाता है कि इसकी स्थापना सिखों के गुरु नानक देव द्वारा 1522 में कराई गई थी। यह वही जगह है जहां पर नानक देव जी ने अपने जीवन के अंतिम 18 वर्ष व्यतीत करते हुए, अंतिम सांसे ली थीं। इस दौरान, उन्होंने क्षेत्र में एक सिख समुदाय को संकलित किया।

करतारपुर साहिब की वर्तमान इमारत पटियाला के महाराजा सरदार भूपिंदर सिंह द्वारा बनवाई गई थी। हालांकि, नष्ट हो जाने के बाद, 1999 में पाकिस्तान के अधिकारियों द्वारा इसकी बहाली तक यह जनता के लिए बंद रहा। मुसलमानों और सिखों दोनों के लिए गुरु नानक देव एक पवित्र व्यक्ति थे, गुरुद्वारा दरबार साहिब करतारपुर दोनों समुदायों के लिए एक पवित्र स्थल बन गया।

क्यों इतना खास है करतारपुर साहिब?

प्रस्तावित करतारपुर कॉरिडोर की अनुमानित लंबाई

कॉरिडोर के बारे में सब कुछ

सीमा के दोनों ओर लगभग 4 किमी, 2 किमी की लंबाई में फैला हुआ, करतारपुर कॉरिडोर पवित्र मंदिर की यात्रा करने वाले यात्रियों की मदद करेगा। यहां प्रमुख कारक हैं:

(अ) रावी नदी पर एक ब्रिज (पुल) कॉरिडोर के हिस्से के रूप में प्रस्तावित किया गया है।

(ब) कॉरिडोर का उपयोग करते  हुए, भारतीय भक्त पासपोर्ट या वीजा के लिए किसी भी आवश्यकता के बिना करतारपुर साहिब पहुंचने में सक्षम होंगे।

(स) भारत में, कॉरिडोर पंजाब के गुरदासपुर में अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर डेरा बाबा नानक के बीच फैला होगा।

(द) पाकिस्तान में, कॉरिडोर सीमा (बार्डर) और करतारपुर साहिब के बीच की दूरी को कवर करेगा, कुल लंबाई लगभग 4 कि.मी. रखी जाएगी।

दोनों देशों के बीच बातचीत

अब कई वर्षों से शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति कॉरिडोर की मांग कर रही है। हालांकि, 1999 में तत्कालीन प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा पहली बार आधिकारिक मांग की गई थी। दोनों देशों के प्रतिनिधियों, वाजपेयी और बेनजीर भुट्टो ने कॉरिडोर के लिए प्रयास किए।

पिछले दशक में भारत और पाकिस्तान के बीच द्वेषपूर्ण रिश्तों की वजह से इस कॉरिडोर के बनने पर प्रतिबंध लगा। 2017 में, एक संसदीय स्थायी समिति ने घोषणा की कि दोनों देशों के बीच चल रही तनातनी को देखते हुए कॉरिडोर का निर्माण नहीं किया जाएगा। इसके बजाय, गुरदासपुर में चार हाई डेफिनिशन दूरबीनों को स्थापित करने पर विचार किया गया था।

अगस्त 2018 में, पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित किया गया था। समारोह में उनकी उपस्थिति को लेकर कई बीजेपी नेताओं ने उनकी आलोचना भी की है, विशेष रूप से पाक सेना के प्रमुख के गले लगने पर।

सिद्धू ने दावा किया कि सेना प्रमुख, कमर जावेद बाजवा ने उन्हें आश्वासन दिया है कि कॉरिडोर 2019 में सिख गुरु की 550 वीं जयंती से पहले खोला जाएगा।

रस्साकसी

सितंबर 2018 में, पाकिस्तान ने घोषणा की थी कि वह वीजा की आवश्यकता को खत्म करके, गुरु नानक की 550 वीं जयंती से पहले भारतीय भक्तों के लिए कॉरिडोर को खोल देगा। सिख समुदाय के सदस्यों द्वारा और खुद सिद्धू ने व्यक्तिगत रूप से इमरान खान का शुक्रिया अदा करते हुए इस फैसले का स्वागत किया है।

नवंबर 2018 में, भारत सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में आधिकारिक तौर पर कॉरिडोर के निर्माण को मंजूरी दी। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, “करतारपुर कॉरिडोर पूरे वर्ष गुरुद्वारा दरबार साहिब जाने वाले तीर्थयात्रियों को सुलभ और आसान मार्ग प्रदान करेगा”।

दोनों देश इसे स्थापित करने के लिए गुप्त प्रयास कर रहे हैं। नींव का पत्थर भारत में 26 नवंबर को रखा गया था, और 28 नवंबर को पाकिस्तान भी गतिविधियों का प्रतिभागी बन जाएगा। पंजाब के कैबिनेट मंत्री, राजिंदर सिंह बावा ने दावा किया है कि केंद्र इसके लिए अभिकथित है कि इस कार्यक्रम ने खान के शपथ समारोह के बाद कितनी तेजी पकड़ी। बावा के अनुसार, भारत का राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण कॉरिडोर के पूरे लेआउट से भी परिचित नहीं है।

शांति की आशा?

इस झगड़े को एक तरफ रखते हुए, सबसे महत्वपूर्ण सवाल यह है कि क्या कॉरिडोर दोनों देशों के बीच संबंधों को बेहतर बनाने की कुंजी के रूप में कार्य करेगा? पिछले कुछ सालों में भारत और पाकिस्तान के संबंधों को टूटते हुए देखा गया है।

दशकों से दोनों पक्षों द्वारा करतारपुर कॉरिडोर की मांग की गई है, भारत में श्रद्धालु भक्तों द्वारा गुरुदासपुर से करतारपुर साहिब के लिए दर्शन का आयोजन किया जाता है। अपने मंदिर के लिए सीधा मार्ग होने के कारण, पासपोर्ट और वीजा की परेशानी के बिना भी सिख समुदाय को एक बड़ी राहत मिल जाएगी। इसके अलावा, कॉरिडोर दोनो देश के लोगों और उनके बीच रिश्तों में एक बढ़ावे के रूप में कार्य करेगा।

पाकिस्तान में सूफियों ने अजमेर में ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पर और इसी तरह कश्मीरी पंडितों ने पाकिस्तानी कब्जे वाले कश्मीर में नीलम घाटी में शारदा पीठ की यात्रा करने की अपनी इच्छा व्यक्त की है। करतारपुर कारिडोर के उद्घाटन के साथ, सिख समुदायों के मन में आशा की एक किरण जगी है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि राजनीतिक संबंधों पर विश्वास और धर्म की जीत दोनों देशों को एक महत्वपूर्ण संदेश देगी: वह आशा अभी भी प्रचलित है। जैसा कि हम मानते हैं कि देश में शांति स्थापित करने के दिन अब दूर नहीं है।

Summary
Article Name
जानिए करतारपुर कॉरीडोर के बारे में
Author
Description
करतारपुर कॉरिडोर का सपना जल्द ही सच होने वाला है। भारत और पाकिस्तान दोनों के काम की शुरुआत के साथ, क्या यह सद्भाव के एक नए युग का प्रतिनिधित्व करेगा?