Home / / दवा उद्योग पर जीएसटी का प्रभाव – कैंसर की दवाएं सस्ती

दवा उद्योग पर जीएसटी का प्रभाव – कैंसर की दवाएं सस्ती

June 29, 2017


Please login to rate

drugs-for-cancer-diabetes-rare-diseases-to-get-affordable-after-GST-hindiवस्तु और सेवा कर (जीएसटी) 1 जुलाई 2017 से पूर्णतयः लागू होने के लिए तैयार है। 12% कर दर के साथ जीएसटी एकल कर प्रणाली है जो अप्रत्यक्ष करों की संख्या को कम करेगी, दवा उद्योग में दवा के दामों में कम से कम 80 प्रतिशत की वृद्धि का भय था।

हालांकि, राष्ट्रीय दवा मूल्य निर्धारण प्राधिकरण (एनपीपीए) ने इसके लिये कदम उठाए हैं और यह सुनिश्चित करके सभी आशंकाओं को दूर कर दिया है कि 1 जुलाई से पूरे देश में जीएसटी की शुरूआत के बाद भी दवाएं सस्ती रहेंगी। एनपीपीए के अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह ने कहा, “कंपनियों के लिए जीएसटी के सुचारू रूप से कार्यान्वयन की सुविधा के लिए, हमने 761 दवाओं के अस्थायी बिक्री मूल्यों का हल निकाल लिया है।”

एनपीपीए ने एक अधिसूचना जारी की है, इसके अनुसार 761 दवाओं का बिक्री मूल्य संशोधित किया गया है जो दवा मूल्य नियंत्रण आदेश (डीपीसीओ) 2013 की अनुसूची 1 का हिस्सा है।

सभी दवा कंपनियों को सूची के माध्यम से कार्य करने के लिए निर्देश दिए गए हैं और यदि कोई सुधार किया जाता है तो 29 जून तक एनपीपीए को सूचित करने के निर्देश दिये गये हैं।

इंडियन ड्रग मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन (आईडीएमए) के अध्यक्ष दीपनाथ रॉय चौधरी के अनुसार, “अनुसूचित दवाओं के अधिकतम शुल्कों में गिरावट आई है और अब यह उम्मीद की रेखा पर हैं।”

एनपीपीए ने जीएसटी को शामिल किए बिना दवाओं की कीमतों पर नियंत्रण रखने के लिए निम्नलिखित प्रक्रियाओं का पालन किया है –

  • दवाओं की मौजूदा अधिकतम बिक्री मूल्यों से उत्पाद शुल्क और वैट की कटौती कर ली गई है।
  • अनुसूचित दवाओं को उत्पाद शुल्क से छूट दी गई है वहीं दवाओं के अधिकतम बिक्री मूल्यों में संशोधन नहीं किया गया है।
  • कुछ जीवन रक्षक दवाएं नई व्यवस्था के तहत 5 प्रतिशत के कर स्तर में हैं।
  • नई शासन प्रणाली के तहत स्टेन्ट्स (उपचार के साधनों) की कीमतों में वृद्धि नहीं हुई है।
  • साइकोलोस्पोरिन और ल्यूकेमिया के इलाज के लिए दवाएं जैसे इम्यूनोसप्रीसेन्ट्स (इन दवाओं से शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को रोक दिया जाता है) अपरिवर्तित रहेंगी।
  • एरिथ्रोपोइटिन, फिल्ग्रास्टिम की दवाओं और हेपेटाइटिस बी की वैक्सीन की कीमतों में कोई परिवर्तन नहीं होगा।

हालांकि, दवा कंपनियां चिंतित हैं कि इन दवाओं की अधिकतम कीमतों में गिरावट आ गयी है, जबकि जीएसटी को दवाओं के नये अधिकतम मूल्यों में जोड़ने से उसके मौजूदा मूल्य दरों में और बढ़ोतरी हो जायेगी।

जिन दवाओं की आधार कीमतों में कमी हो गई है, जीएसटी के आने से उनकी कीमतों में मामूली वृद्धि हो जायेगी, जो दवा उद्योग की सांत्वना के रूप में आ जाएगी। वास्तव में, एनपीपीए की अधिसूचना के अनुसार, इन दवाओं की कीमतें कुछ सौ रुपये तक कम हो जाएंगी –

  • कैंसर – कैंसर विरोधी दवा बोर्टेज़ोमिब इंजेक्शन के पाउडर के पैकेट की कीमत 11,637 रुपये से घटाकर 11,160 रुपये कर दी गई है। डॉकटेक्सेल के पैक का अधिकतम मूल्य 10,767.88 रुपये से घटकर 10,326.94 रुपये पर आ जाएगा। जेमिसिटाइबिन की कीमत 5,019.49 रुपये से घटकर 4,813.94 रुपये प्रति पैकेट पर आ जाएगी। स्तन कैंसर के उपचार के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले ट्रस्टुजुंब इंजेक्शन की कीमत 1 जुलाई के बाद 56,912.83 रुपये से घटाकर 54,582.25 रुपये तक कर दी जाएगी।
  • एचआईवी – टेनोफॉवीर (300 मि.ली.ग्राम), लैमिउडिन (300 मि.ली.ग्राम) और इफेवेरनेज (600 मि.ली.ग्राम) की मिश्रित दवाएं लैमिवुडाइन तथा जिडोव्युडाइन और साथ ही एचआईवी के उपचार की दवा दारूनावीर की टेबलेट की कीमत काफी हद तक कम हो गई है।
  • मिर्गी की दवा लेविटेरासिटाम की कीमत भी कम हो गई है।
  • मधुमेह के रोगियों द्वारा ली जाने वाली दवा मेटफॉर्मिन की कीमत में भी कमी आई है।
  • पेट संबंधी रोग, न्यूमोनिया और त्वचा संबंधी रोगों की दवाओं की कीमतों में भी एक उल्लेखनीय कमी देखी जायेगी।
  • पैरासिटामॉल जैसी नियमित दवाओं की कीमतों में भी में कटौती देखी जा सकती है।

जीएसटी से सम्बन्धित अन्य लेख

जीएसटी कैसे करेगा ऑटोमोबाइल उद्योग को प्रभावित?

जीएसटी क्या है

जीएसटी आगे बढ़ा – टैक्स स्लैब का अनावरण किया गया

जीएसटी बिल पास करने वाला पहला राज्य