Home / Politics / मोदी सरकार द्वारा अब तक किए गए 10 सर्वश्रेष्ठ कार्य

मोदी सरकार द्वारा अब तक किए गए 10 सर्वश्रेष्ठ कार्य

November 23, 2018


Please login to rate

 

मोदी सरकार द्वारा अब तक किए गए 10 सर्वश्रेष्ठ कार्य

जब मोदी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में बड़े पैमाने पर जनादेश के साथ जीत हासिल की, तब उन्होंने एक मजबूत संदेश दिया कि “हम यहाँ किसी भी पद के लिए नहीं बल्कि एक जिम्मेदारी के लिए हैं।” नौकरशाहों से लेकर सांसदों तक, मोदी के कार्यकाल में सभी लोगों ने उचित रूप से काम करना शुरु कर दिया है। सामान्य आय वाले लोगों के लिए कल्याणकारी योजनाओं की शुरूआत की और विदेश नीति को भी मजबूत किया। मोदी की टोली लोगों की उम्मीदों को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है।

मोदी की अगुवाई वाली सरकार एक वर्ष से अधिक समय से पहिये (सत्ता) पर घूम रही है। सत्ता में आने के बाद मोदी सरकार ने 10 प्रमुख ऐतिहासिक काम किए हैं:

1. मेक इन इंडिया

निवेश की सुविधा के लिए, अनुसंधान एवं विकास (आर एंड डी) को बढ़ावा देना, उत्पाद की शुद्धता सुनिश्चित करना और औद्योगिक क्षेत्र की स्थापना, योग्यता के आधार पर नौकरियाँ देना; नरेंद्र मोदी ने प्रमुख राष्ट्रीय कार्यक्रम शुरू किये थे। मोदी ‘मेक इन इंडिया‘ द्वारा अपने विचारों को दुनिया तक पहुँचा चुके हैं तथा विदेशी कम्पनियों ने सकारात्मक प्रतिक्रिया भी व्यक्त की है। पाइपलाइन में प्रमुख श्रम कानून सुधार, भारत में निर्माण उद्योग और विदेशी निवेश को बढ़ावा देगा।

2. स्वच्छ भारत अभियान

स्वच्छ भारत अभियान 2 अक्टूबर 2014 को मोदी द्वारा शुरू किया गया था। भारत में गंदगी को प्रमुख समस्याओं में से एक माना जाता है तथा मोदी ने राष्ट्रव्यापी अभियान शुरू करने के लिये इस इस मुद्दे पर जोर दिया। बहुत से लोगों ने इसे मोदी का एक मास्टर स्ट्रोक भी कहा क्योंकि उन्होंने सार्वजनिक अवधारणा को महात्मा गाँधी की समानता में रखा और लोगों को स्वच्छता और नागरिक भावनाओं पर कार्य करने के लिए संदेश दिया। मोदी ने फिल्म उद्योग, खेल, मीडिया, व्यापार और अन्य मशहूर  हस्तियों को बढ़ावा देने के लिए उल्लेखनीय शख्सियत को नामित किया।

3. योजना आयोग को बदलने के लिए नीति आयोग का निर्माण

1 जनवरी 2015 को मोदी ने नेशनल इंस्टीट्यूशन ऑफ ट्रान्सफॉर्मिंग इंडिया (एनआईटीआई) का गठन किया जो कि योजना आयोग की जगह भारत सरकार का नीतिगत विचारक है। सूची को जीओएम और ईजीओएम के साथ समाप्त कर दिया गया था, जो यूपीए शासन के तहत नीतिगत पक्षाघात का कारण बना। नीति आयोग का नेतृत्व प्रधानमंत्री मोदी की देख-रेख में है और इनके सदस्यों में मुख्य अर्थशास्त्री, परामर्शदाता और अमेरिकी विचारकों की तर्ज पर सलाहकार शामिल हैं।

4. जन धन योजना

15 अगस्त 2014 को मोदी ने जन धन योजना की घोषणा की। पिछले एक साल में बैंकों में 15 करोड़ से अधिक खाते खोल दिए गए थे। जिसका मुख्य उद्देश्य घर-घर तक पहुँचने पर रहा है ताकि खाता धारकों को क्रेडिट की सुविधा, पेंशन और बीमा उपलब्ध कराई जा सके।

5. आर्थिक सुधार और नीति कार्यान्वयन

मोदी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार का प्राथमिक ध्यान निर्माण और निर्यात के क्षेत्र में प्रमुख सुधारों के माध्यम से भारतीय अर्थव्यवस्था को पहले जैसा करने पर रहा। सरकार ने रेलवे, बीमा और प्रतिरक्षा में एफडीआई की सीमाओं में न केवल बढ़ोतरी की है बल्कि सार्वजनिक क्षेत्र की कम्पनियों के निजीकरण नुकसान को भी बढ़ावा दिया है।

बिना सत्ता के सहयोगियों द्वारा फँसाये जाने पर भी, मोदी ने अपना ध्यान परिवर्तन पर केंद्रित किया। सरकार के बुनियादी ढाँचे के सामने, डायमंड चतुर्भुज रेल कॉरिडोर परियोजना के तहत प्रमुख महानगरों को जोड़ने का काम शुरू कर दिया है। मोदी के 100 स्मार्ट शहरों और स्वच्छ गंगा का स्वप्न परियोजनाओं के लिए प्रमुख सुधार और विकास प्रक्रिया चल रही है।

6. विदेश नीति फास्ट-ट्रैक प्रणाली

मोदी की विदेश नीति वर्तमान में पड़ोसी देशों के साथ संबंधों में सुधार लाने और भारत में उनके द्वारा निवेश पर केंद्रित है। अमेरिका में, उन्होंने कई अमेरिकी व्यापारिक नेताओं से मुलाकात की और उन्हें मेक इन इंडिया कार्यक्रम का एक हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित किया। फ्राँस की अपनी हाल ही की यात्रा के दौरान, उन्होंने भारत में उत्पादन-संबंधी अवसरों की खोज के लिए, एयरोस्पेस विशालकाय एयरबस के लिये आग्रह किया है। जर्मनी में उन्होंने मेक इन इंडिया की पहल के लिए एक मजबूत ढाल बनायी है, वह अधिक “प्रतियोगितात्मक, आत्म विश्वासी और भय से निवृत्त” भारत के संदेश को भेजने का प्रयास कर रहे हैं।

7. पर्यटन क्षेत्र को बढ़ावा

सरकार की कार्य योजना में पर्यटन को मुख्य रूप से शामिल किया गया था। इसका मुख्य लक्ष्य भारत को एक विश्व स्तरीय यात्रा के लायक स्थान बनाना था। पिछले एक साल में, वीजा प्रणाली में एक बड़ा सुधार हुआ है। सभी प्रमुख देशों के लिए वीजा पर आगमन की सेवा का इस दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम था। इसके अलावा, मोदी सरकार को सत्ता में आने के बाद विदेशी पर्यटकों के आने की संख्या में वृद्धि देखी गई है।

8. पड़ोसी नीति का पहले परिपालन

मोदी सरकार द्वारा उठाए गए प्रमुख नीतिगत कार्यों में से एक तत्काल पड़ोसियों के साथ संबंध सुधारने पर सक्रिय रूप से ध्यान केंद्रित करना था। मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में सार्क देशों के सभी प्रमुखों को आमंत्रित करना, मोदी का प्रधान मंत्री के तौर पर एक आक्रामक और चतुर कदम था। उन्होंने दुनिया को साहसिक संदेश दिया कि कोई भी ऐसे शपथ ग्रहण नहीं करता जैसे हम एशिया में करते हैं। यह मोदी की पहली व्यवहार कुशल जीत थी और फिर भारत ने खुद को गंभीरतापूर्वक लेना शुरू कर दिया।

9. शौचालय निर्माण के लिए अभियान

प्रधानमंत्री मोदी ने 2019 तक शौचालय की एक अविश्वनीय दर पर दस करोड़ शौचालयों का निर्माण कराने के लिए एक बड़ी योजना शुरू की है। मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान में योगदान देने के लिए निगमित क्षेत्र से अपील की। आईटी एवं विशाल टीसीएस से सकारात्मक प्रतिक्रिया आई है और उन्होंने देश भर में लड़कियों के स्कूलों में 10,000 शौचालय बनाने का फैसला किया है। इसके लिए 100 करोड़ रुपये की एक विशाल राशि का प्रावधान किया गया है। ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स ने शौचालयों के निर्माण के लिए 2 करोड़ रुपये के योगदान की घोषणा की है। भारती फाउंडेशन, अदानी ग्रुप, रिलायंस ग्रुप और वेदांत ग्रुप ने भी अभियान के लिए समर्थन और महत्वपूर्ण योगदान देने की घोषणा की है।

10. कश्मीर में विश्वास-निर्माण उपाय

कश्मीर भारत का एक अभिन्न अंग है, लेकिन पिछली केंद्र और राज्य सरकारों के खिलाफ शिकायतों की लम्बी सूची है। जब कश्मीर में बाढ़ के कारण घाटी में विनाश पैदा हुआ, तो मोदी सरकार द्वारा की गयी प्रतिक्रिया तत्काल और वास्तविक थी। मोदी ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों और कश्मीर के लोगों के लिए सतत निगरानी प्रणाली समर्पित की है। उन्होंने कश्मीर में बाढ़ से बचे लोगों के साथ दीपावली मनाने का फैसला किया। यहाँ तक ​​कि उनके आलोचकों ने उनकी कार्यवाही की प्रशंसा भी की। एक लंबे समय के बाद एक भारतीय राजनीतिज्ञ कश्मीरी लोगों के साथ एक सम्बन्ध स्थापित करने में कामयाब रहा।