जयपुर

पर्यटन के लिहाज से जयपुर भारत के सबसे महत्वपूर्ण शहरों में से है। राजस्थान में स्थित इस शहर को महाराजा सवाई जय सिंह द्वितीय ने 18 नवंबर 1727 को स्थापित किया था। जयपुर प्राकृतिक सौंदर्य के साथ साथ महान इतिहास की भी धरती है। इसका पर्यटन उद्योग बहुत ही समृद्ध है। गुलाबी शहर के नाम से मशहूर यह शहर राजस्थान की राजधानी भी है। हवाई, सड़क और रेल के मजबूत नेटवर्क के चलते यह दुनिया भर के कई हिस्सों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

जयपुर के महल देशी और विदेशी सैलानियों के पसंदीदा स्थान हैं। जयपुर के कई पुराने और उपेक्षित महल और किले अब हेरिटेज होटल मेें तब्दील किए जा चुके हैं। जयपुर के सेवा क्षेत्र की प्रतिष्ठा उसके पर्यटन, रियल स्टेट, बीमा और होटल उद्योग से है।

जयपुर राजस्थान में शिक्षा का केंद्र है। इस शहर में कई प्रतिष्ठित काॅलेज हैं जो दुनिया भर के छात्रों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। व्यवसायिक डिग्री के अलावा जयपुर में ऐसे कई काॅलेज हैं जो आट्र्स, काॅमर्स और विज्ञान में डिग्री मुहैया कराते हैं। जयपुर के कई काॅलेज अपने शैक्षिक इतिहास और सुविधाओं के लिए जाने जाते हैं। कुछ प्रमुख काॅलेजों में सत्य साईं महिला काॅलेज, श्री खंडेलवाल वैश्य काॅलेज, वैदिक कन्या काॅलेज, शासकीय महाराजा आचार्य संस्कृत काॅलेज, बियानी काॅलेज, भारत लाॅ काॅलेज आदि अन्य हैं।

जयपुर का सड़क नेटवर्क सबसे अच्छी तरह से सहेजा गया सड़क नेटवर्क है। भारत के सभी प्रमुख शहरों और कस्बों से इस शहर तक आसानी से पहुंचा जा सकता है। हवाई, सड़क और रेल के माध्यम से जयपुर उत्कृष्ट तौर पर सबसे जुड़ा हुआ है। इस शहर का रेलवे स्टेशन और एयरपोर्ट राज्य में प्रवेश के प्रमुख केंद्र हैं। जयपुर की यात्रा इसलिए भी और आसान है क्योंकि यह भारत का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है।

जयपुर का भारत के सभी महानगरों और शहरों से शानदार हवाई संपर्क है। जयपुर एयरपोर्ट मुख्य शहर से 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। ज्यादातर घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय विमान सेवाएं जयपुर के लिए और जयपुर से उड़ानें भरती हैं। दिल्ली और मुंबई से जयपुर के लिए नियमित उड़ानें मिलती हैं। जयपुर से शारजाह और मस्कट के लिए नियमित रुप से अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें उपलब्ध हैं।

जयपुर रेलवे स्टेशन राजस्थान का मुख्य स्टेशन है। भारत के ज्यादातर शहर और कस्बे जयपुर से जुड़े हैं। बड़ी संख्या में रेलें रोजाना जयपुर से और जयपुर के लिए चलती हैं। जयपुर की कुछ महत्वपूर्ण रेलें हैः शताब्दी, मंडोर एक्सप्रेस, जम्मू तवी एक्सप्रेस, आश्रम एक्सप्रेस, अहमदाबाद मेल, इबादत एक्सप्रेस आदि।

जयपुर गुलाबी शहर के नाम पर मशहूर है जो कि पश्चिमी भारत के राजस्थान राज्य की राजधानी है। जयपुर जिले का कुल क्षेत्र 11,117 वर्ग किलोमीटर है जिसका औसत जनसंख्या घनत्व 470 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर है। 2001 की जनगणना के अनुसार जयपुर की आबादी 5252338 है। इसमें ग्रामीण और शहरी जनसंख्या बराबर है। जयपुर जिला राजस्थान के पूर्वी भाग में है। यह उत्तर की ओर से सीकर और हरियाणा राज्य के महेंद्रगढ़ से घिरा है। इसके दक्षिण में टोंक जिला, पूर्व में सवाई माधोपुर और दौसा जिले हैं। राज्य की राजधानी होने के नाते जयपुर में विधान सभा भी है। इस जिले में 13 तहसील और उप तहसील हैं जिनके नाम जयपुर, चोमू, आमेर, सांगानेर, शाहपुरा, बस्सी, चाकसू, मोजमाबाद, जामवा रामगढ़, फागी, फुलेरा, कोटपुतली, विराटनगर हैं। साथ ही यहां 13 पंचायत समितियां और 2369 गांव हैं।

राजस्थान में होने के कारण जयपुर की जलवायु शुष्क है। गर्मियों में जयपुर का मौसम बहुत गर्म और सर्दियों में बहुत ठंडा रहता है। जयपुर में तीन मौसम प्रमुख हैं - गर्मी, सर्दी और मानसून। गर्मियां अक्सर अप्रेल से जुलाई अंत तक रहती हैं। गर्मियों में तापमान आमतौर पर 30 डिग्री से 45 डिग्री रहता है। मानसून जुलाई में आता है, पर आमतौर पर जून से शुरु हो जाता है। इस शहर में सालभर में 650 मिलीमीटर बरसात होती है। जयपुर का मानसून आमतौर पर भारी बरसात वाला होता है और इसमेें लगातार बारिश के साथ गरज भी होती है। यहां घूमने आने का सबसे अच्छा समय सर्दियों का होता है। इस शहर में सर्दियां नवंबर से शुरु हो जाती हैं। इस दौरान यहां का तापमान 15-18 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। यहां की सर्दियां सुहावनी होती हैं और शीतलहर नहीं होती, ना ही चरम ठंड होती है। जयपुर के लिए उड़ानें सांगानेर हवाई अड््डे पर उतरती हैं। 2006 में सांगानेर एयरपोर्ट को अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड््डे का दर्जा मिला था और यह भारत का 14वां अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड््डा था। जयपुर के घरेलू हवाई अड््डे पर खाने पीने के कई स्थान, शाॅपिंग सेंटर और मेडिकल सुविधा केंद्र हैं। कई घरेलू उड़ानें नियमित रुप से जयपुर से उड़ती हैं। जयपुर से दिल्ली, मुंबई और अहमदाबाद के लिए लगभग हर दिन उड़ानें उपलब्ध हैं। जयपुर से कुछ लोकप्रिय उड़ानों में इंडियन एयरलाइंस, एयर सहारा, स्पाइस जेट, एयर डेक्कन, किंगफिशर एयरलाइंस, एलायंस एयर, गो एयर और जेट एयरवेज हैं।

जयपुर के शाही शहर में पूरे साल कई त्यौहार भरपूर उत्साह से मनाए जाते हैं। जयपुर में कई त्यौहार होते हैं। यह मेले और त्यौहर जयपुर की पहचान का अभिन्न हिस्सा हैं।

जयपुर दिल्ली से 260 किलोमीटर और आगरा से 240 किलोमीटर है और यह “गोल्डन टूरिस्ट सर्किट“ का हिस्सा हैै। इस शहर में दुनिया भर से हजारों सैलानी आकर्षण से खिंचे चले आते हैं। जयपुर तब अस्तित्व में आया जब महाराजा सवाई जय सिंह ने इस खूबसूरत शहर की स्थापना 1727 में की। जयपुर में कई शाही राजवंशों का उदय हुआ और यह उस समय का महत्वपूर्ण सांस्कृतिक केंद्र भी रहा।

स्थान
यह राजस्थान के पूर्वी भाग में स्थित है। जयपुर अपनी सीमा उत्तर की ओर से सीकर और अलवर से साझा करता है और इसके दक्षिण में टोंक, अलवर और सवाई माधोपुर और पूर्व में दौसा और भरतपुर और पश्चिम में नागौर, सीकर और अजमेर हैं। बुनियादी ढांचा जयपुर हवाई, सड़क और रेल के मजबूत नेटवर्क के चलते भारत के कई हिस्सों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

पर्यटन के स्थान
जयपुर एक प्रमुख सैलानी केंद्र है और यहां कई ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व के स्थान हैं।
कुछ महत्वपूर्ण पर्यटन आकर्षण हैंः
  • हवा महल - हवा महल जयपुर का महत्वपूर्ण स्थान है और यह दुनिया भर के सैलानियों को अपनी ओर आकर्षित करता है।
  • सिटी महल - यह वास्तुकला का एक आश्चर्य है जो राजस्थानी और मुगल वास्तुकला के अद््भुत मेल से बना है।
  • जंतर मंतर - यह प्रसिद्ध वेधशाला तारों और ग्रहों के चलन के अध्ययन के लिए बनाई गई थी।
  • अलबर्ट हाॅल - इस शानदार भवन में अतीत की कई कलाकृतियों और चित्रों का संग्रह है।
  • जयगढ़ किला - इस किले से जयपुर का एक विहंगम दृश्य दिखता है।
  • अपनी अनोखी वास्तुकला और प्राकृतिक परिवेश के साथ जयपुर शहर रंगारंग और अनूठा दिखता है और भारत का सबसे ज्यादा देखे जाने वाला पर्यटन केंद्र है।

जयपुर जिला तथ्य
राज्यराजस्थान
जिलाजयपुर
जिला मुख्यालयजयपुर
जनसंख्या (2011)6626178
विकास0.26
लिंग अनुपात910
साक्षरता75.51
क्षेत्रफल (वर्ग किमी)11152
घनत्व (/ वर्ग किमी)598
तहसीलआमेर, बस्सी, चकसु, चोमु, जयपुर, जामवा, रामगढ़, कोटपुतली, मौज़माबाद, फागी, फूरेला, सांगानेर, शाहपुरा, विराटनगर
लोकसभा क्षेत्रजयपुर, जयपुर ग्रामीण, सीकर, दौसा, अजमेर
विधानसभा क्षेत्रआमेर, बस्सी, चकसु, चोमु, जामवा, रामगढ़, कोटपुतली, फूरेला, सांगानेर, शाहपुरा, विराटनगर, आदर्श नगर, बगरु, सिविल लाइंस, दुदु, हवा महल, झोटवारा, किशनपोल, मालवीय नगर, विद्याधर नगर
भाषाएंहिंदी, धुंधरी सहित राजस्थानी
नदियां 
अक्षांश-देशांतर27.024877,75.914726
पर्यटन स्थलसिटी पैलेस, जंतर मंतर, हवा महल, अलबर्ट हाॅल, आमेर किला, बीएम बिड़ला तारामंडल, गलताजी, लक्ष्मी नारायण मंदिर, नाहरगढ़ किला, सरगासुली गोविंद देव जी मंदिर, सिसोदिया रानी का बाग, जयगढ़ किला, गैतोर, मोती डूंगरी, राम निवास बाग, विद्याधरजी का बाग, रामगढ़ झील
सरकारी कॉलेज/विश्वविद्यालयराजस्थान विश्वविद्यालय, बीबीडी शासकीय कन्या कॉलेज, शासकीय कॉलेज, शासकीय शकंभर पीजी कॉलेज, राजस्थान संगीत संस्थान, राजस्थान कला स्कूल, एसपीडीएम शासकीय कन्या कॉलेज, सेठ आरएलएस शासकीय पीजी कॉलेज आदि


राजस्थान के जिले
अजमेरदौसाकरौली
अलवरधौलपुरकोटा
बांसवाड़ाडूंगरपुरनागौर
बारांगंगानगरपाली
बाड़मेरहनुमानगढ़प्रतापगढ़
भरतपुरजयपुरराजसमंद
भीलवाड़ाजैसलमेरसवाई माधोपुर
बीकानेरजालोरसीकर
बूंदीझालावाड़सिरोही
चित्तौड़गढ़झुंझुनूंटोंक
चुरूजोधपुरउदयपुर


अंतिम संशोधन : अगस्त 08, 2016